Breaking News
Home / स्वास्थ्य / केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में क्रायोबायोप्सी का शुभारम्भ
18

केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में क्रायोबायोप्सी का शुभारम्भ

18

Sudheer tiwari  

लखनऊ। केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष प्रो. सूर्यकांत ने विभाग के सभी डाक्टरों की उपस्थिति में क्रायोबायोप्सी कार्यशाला का शुभारम्भ किया। उन्होनें कहा कि आज का दिन रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के लिए एक नया अध्याय लेकर आया है वैसे तो इस विभाग में ब्रान्कोस्कोपी की शुरुआत 1986 में ही हो गयी थी। इसके बाद वीडियों ब्रान्कोस्कोपी 2002 में एवं थोरैकोस्कोपी 2007  में इस विभाग में प्रारम्भ हुआ। क्रायोप्रोब का प्रयोग रिजिड अथवा फ्लेक्सिबल ब्रान्कोस्कोप के माध्यम से किया जाता है। क्रयोबायोप्सी में इस्तेमाल होने वाले क्रायोप्रोब को अति ठण्डा करने के लिए कार्बन डाई आक्साइड एवं नाइट्रस आक्साइड गैसों का प्रयोग किया जाता है।

जैसे ही क्रायोप्रोब ऊतको के सम्पर्क में आता है, ऊतक क्रायोप्रोब से चिपक जाते है। इसके बाद प्रोब को ब्रान्कोस्कोप सहित फेफड़े से बाहर निकाल लिया जाता है और निकाले गये बायोप्सी के टुकड़े को उचित माध्यम में जांच के लिए रख लिया जाता है। क्रायोबायोप्सी के आ जाने से फेफड़े के कैंसर, टीबी तथा आइ. एल.डी. जैसी गम्भीर बीमारियों की सटीक जांच हो सकेगी इसके द्वारा बायोप्सी की जांच करने में कम रक्त स्त्राव व कम जटिलता होती है। इस मशीन के द्वारा सिर्फ जांच ही नही बल्कि जटिल रोगो के उपचार में मदद मिलेगी। इस मशीन से सांस की नली में फंसी फारेन बाडी को निकालने में मदद मिलेगी तथा सांस की नलियों की सिकुडऩ (स्टेनोसिस) को भी सही करने में मदद मिलेगी।

इस मशीन से फेफड़े के ट्यूमर की बायोप्सी भी असानी से हो जायेगी। इस मौके पर क्रायोबायोप्सी के उपकरण तथा इसके प्रयोग के बारे में एक सफल कार्यशाला का भी आयोजन किया गया। जिसमें सभी चिकित्सकों एवं जूनियर डाक्टर को इस मशीन के उपयोग के बारे में प्रशिक्षण दिया गया। इस मौके पर रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के चिकित्सक प्रो. एस. के. वर्मा, प्रो. राजीव गर्ग, डा. अजय कुमार वर्मा, डॉ आनन्द श्रीवास्तव, डा. दर्शन कुमार बजाज व सीनियर एवं जूनियर रेजिडेन्टस के साथ ब्रान्कोस्कोपी यूनिट के सभी टेक्निशियन व सहयोगी स्टाफ मौजूद रहें।

Check Also

Photo 1 cut

क्रोनिक हेपेटाईटिस संक्रमण के बढ़ रहे मामले, विश्व में भारत दूसरे स्थान पर

लखनऊ। क्रोनिक हेपेटाईटिस संक्रमणों की संख्या में चीन के बाद भारत दूसरे स्थान पर है। लगभग …

Photograph

2030 तक भारत से मलेरिया खत्म करने का संकल्प, गोदरेज का यूपी सरकार के साथ त्रिपक्षीय एमओयू

लखनऊ: गोदरेज कंज़्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (जीसीपीएल) ने स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार, …

IMG-20190715-WA0012 copy

Waah : जटिल रीडू सर्जरी से वाल्व बदल बचायी मरीज की जान

लखनऊ। एनएबीएच व एनएबीएल मान्यता प्राप्त गोमतीनगर स्थित सहारा हास्पिटल में वाल्व की खराबी को …

photo - 1

देश में ऑफिस जाने वालों के बीच वितरित होंगे 10 लाख से अधिक ओडोमॉस

लखनऊ: भारत को डेंगू मुक्त बनाने के अपने मिशन पर आगे बढ़ते हुए डाबर ओडोमॉस …

apnia

Careful : ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया में नींद में ही रुक जाती है सांस, हो सकता है जानलेवा

लखनऊ: ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया एक ऐसी बीमारी है जो देखने में भले ही खास न …

Untitled-1 copy (1)

Life : सहारा हास्पिटल में 26 सप्ताह के प्रीमेच्योर नवजात को मिला नया जीवन

लखनऊ। एनएबीएच एवं एनएबीएल मान्यता प्राप्त सहारा हास्पिटल में जटिल बीमारी से पीड़ित जच्चा-बच्चा को …