Breaking News
Home / स्वास्थ्य / केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में क्रायोबायोप्सी का शुभारम्भ
18

केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में क्रायोबायोप्सी का शुभारम्भ

18

Sudheer tiwari  

लखनऊ। केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष प्रो. सूर्यकांत ने विभाग के सभी डाक्टरों की उपस्थिति में क्रायोबायोप्सी कार्यशाला का शुभारम्भ किया। उन्होनें कहा कि आज का दिन रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के लिए एक नया अध्याय लेकर आया है वैसे तो इस विभाग में ब्रान्कोस्कोपी की शुरुआत 1986 में ही हो गयी थी। इसके बाद वीडियों ब्रान्कोस्कोपी 2002 में एवं थोरैकोस्कोपी 2007  में इस विभाग में प्रारम्भ हुआ। क्रायोप्रोब का प्रयोग रिजिड अथवा फ्लेक्सिबल ब्रान्कोस्कोप के माध्यम से किया जाता है। क्रयोबायोप्सी में इस्तेमाल होने वाले क्रायोप्रोब को अति ठण्डा करने के लिए कार्बन डाई आक्साइड एवं नाइट्रस आक्साइड गैसों का प्रयोग किया जाता है।

जैसे ही क्रायोप्रोब ऊतको के सम्पर्क में आता है, ऊतक क्रायोप्रोब से चिपक जाते है। इसके बाद प्रोब को ब्रान्कोस्कोप सहित फेफड़े से बाहर निकाल लिया जाता है और निकाले गये बायोप्सी के टुकड़े को उचित माध्यम में जांच के लिए रख लिया जाता है। क्रायोबायोप्सी के आ जाने से फेफड़े के कैंसर, टीबी तथा आइ. एल.डी. जैसी गम्भीर बीमारियों की सटीक जांच हो सकेगी इसके द्वारा बायोप्सी की जांच करने में कम रक्त स्त्राव व कम जटिलता होती है। इस मशीन के द्वारा सिर्फ जांच ही नही बल्कि जटिल रोगो के उपचार में मदद मिलेगी। इस मशीन से सांस की नली में फंसी फारेन बाडी को निकालने में मदद मिलेगी तथा सांस की नलियों की सिकुडऩ (स्टेनोसिस) को भी सही करने में मदद मिलेगी।

इस मशीन से फेफड़े के ट्यूमर की बायोप्सी भी असानी से हो जायेगी। इस मौके पर क्रायोबायोप्सी के उपकरण तथा इसके प्रयोग के बारे में एक सफल कार्यशाला का भी आयोजन किया गया। जिसमें सभी चिकित्सकों एवं जूनियर डाक्टर को इस मशीन के उपयोग के बारे में प्रशिक्षण दिया गया। इस मौके पर रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के चिकित्सक प्रो. एस. के. वर्मा, प्रो. राजीव गर्ग, डा. अजय कुमार वर्मा, डॉ आनन्द श्रीवास्तव, डा. दर्शन कुमार बजाज व सीनियर एवं जूनियर रेजिडेन्टस के साथ ब्रान्कोस्कोपी यूनिट के सभी टेक्निशियन व सहयोगी स्टाफ मौजूद रहें।

Check Also

1

किडनी प्रत्यारोपण में नारायण सेवा संस्थान से मिली मदद से रविन्द्र को मिला नया जीवन

जालौन: जालौन निवासी राम प्रकाश के 23 वर्षीय पुत्र रविन्द्र सिंह दो वर्ष से अधिक …

medical

आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर वाराणसी के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ.अरविन्द सिंह निलम्बित

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभागीय मंत्री एवं राज्य सरकार के …

study4

ऑटिज्म के प्रति जागरूकता की चली मुहिम

लखनऊ: स्टडी़ हॉल, दोस्ती ने लोगों का ध्यान ऑटिज़्म की ओर आकर्षित करने हेतु ऑटिज्म …

apolo-

जीवनशैली, जंक फूड और बुरी आदतों की देन है कोलोरेक्टल कैंसर की बीमारी

बुलंदशहर : अपोलो हाॅस्पिटल्स ग्रुप के मुख्य हाॅस्पिटल इन्द्रप्रस्थ अपोलो हाॅस्पिटल्स ने लोगों को रोबोटिकगैस्ट्रो-इन्टेस्टाइनलसर्जरी, कोलोरेक्टर …

IMG_5448

अनुसंधान कार्यक्रम मेँ अपरिहार्य अवस्था मेँ कम से कम जंतुओं के प्रयोग की ली शपथ

लखनऊ: प्रायोगिक जन्तु प्रभाग, केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान लखनऊ एवं लैबोरेटरी एनिमल साइंस एसोसिएसन आफ़ …

ssssss

ट्रांसएशिया बायोमेडिकल्स की हिमैटोलॉजी रेंज अब यूपी में भी उपलब्ध

लखनऊ: भारत की नंबर 1 इन-विट्रो डायग्नोस्टिक (आइवीडी) कंपनी, ट्रांसएशिया बायो-मेडिकल्स लिमिटेड और उभरते बाजारों …