Breaking News
Home / स्वास्थ्य / जल्द ध्यान नहीं दिया तो भारत बन जायेगा दुनिया  का आर्थराइटिस कैपिटल
11102018 (4)--------

जल्द ध्यान नहीं दिया तो भारत बन जायेगा दुनिया  का आर्थराइटिस कैपिटल

11102018 (4)--------लखनऊ: ओस्टियोआर्थराइटिस भारतीयों मेंसबसे ज्यादा पाया जाने वाला अर्थराइटिस है. भारत में लगभग 15 मिलियन लोग ओस्टियोआर्थराइटिस से प्रभावित हैं। विशेष तौर से महिलाएं इससे ज्यादा प्रभावित रहती हैं। ऐसा पाया गया है कि 65 वर्ष की आयु से ऊपर की महिलाओं में लगभग 45 प्रतिशत महिलाओं में इसके लक्षण देखने को मिलते हैं और जांच करने पर पता चला कि लगभग 70% महिलाएं जो कि 65 वर्ष से ऊपर आयु की हैं उनमें ओस्टियोआर्थराइटिस के लक्षण हैं.

विश्व आर्थराइटिस दिवस 12 अक्टूबर को

यह जानकारी आर्थराइटिस फाउंडेशन ऑफ लखनऊ के संस्थापक डाक्टर संदीप कपूर और डाक्टर संदीप गर्ग ने विश्व आर्थराइटिस दिवस की पूर्व संध्या पर अयोजोत पत्रकार वार्ता में कही. डॉ कपूर ने बताया कि जिस दर से ओस्टियो आर्थराइटिस की समस्या देश में पाई जा रही है यह संभव है कि साल 2025 तक लगभग 7 मिलियन लोग भारत में ओस्टियोआर्थराइटिस से प्रभावित हो सकते हैंऔर यह इस बात का संकेत है की भारत दुनिया में इस बीमारी का कैपिटल बन सकता है।

डॉ गर्ग ने बताया किकी जोड़ों की समस्या बढ़ने का एक कारण औसत आयु का बढ़ना भी है. जोड़ों के दर्द या अन्य लक्षणों को गंभीरता से लिया जाना चाहिए और हर व्यक्ति को यह देखना चाहिए की वह जोड़ोंके दर्द को नजरअंदाज न करें. वही पिछले कुछ दशकों में ऑपरेशन करने में यह बात सामने आई है की चार-पांच मरीजों में महज एक ही पुरुष काऑपरेशन होता है जिससे यह बात साफ हो जाती हैं की महिलाओं में समस्या ज्यादा है और यह समस्या युवा लोगों में देखने को भी मिल रही है परन्तु अभी इसके कारण भी स्पष्ट नहीं है।

ऐसे में लोगों को सावधानी इस बात पर भी रखनी चाहिए कि वह अनसाइंटिफिक व इंटरनेट के माध्यम से खोजे गए इलाज पर भरोसा ना करें. शुरुआती लक्षणों के आते ही सही समय पर जांच और इलाज से संभव है कि बीमारी को उसके शुरुआती स्टेज पर पकड़ा जाए और इलाज भी उसी हिसाब से हो जिससे सर्जरी से भी बचा जा सके.

डॉ. संदीप कपूर व डॉ. संदीप गर्ग ने बताया कि आर्थराइटिस प्रमुख रूप से शरीर के जोड़ों पर असरकरता है. आर्थराइटिस आज जीवनशैली सम्बन्धित बीमारियों में पहले स्थान पर है. डॉ.कपूर ने बताया कि लखनऊ में लगभग 5 लाख व्यक्ति आर्थराइटिस से प्रभावित हैं. भारत में यह संख्या 10 करोड़ है.

आर्थराइटिस दिवस पर होगी साइकिलथान

आर्थराइटिस के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए आर्थराइटिस फाउण्डेशन ऑफ लखनऊ आर्थराइटिस दिवस 12 अक्टूबर को ‘‘साइकिलथान’’ का आयोजन करेगा. यह साइकिल थान गोमती नगर स्थित हेल्थ सिटी ट्रॉमासेंटर एंड सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल पर सुबह 6.30 बजे शुरू होगी. इस दौरान योगाभ्यास का भी आयोजन किया गया है. कार्यक्रम में मुख्य रूप से महापौर और जिलाधिकारी सहित शहर के गणमान्य लोग, डाक्टर, प्रबुद्ध लोग व बुजुर्गों के साथ युवा भी प्रतिभाग करेंगे.

Check Also

siddharth nath singh

ब्लैक लिस्ट कंपनी को ठेका, स्वास्थ्य मंत्री के बयान पर विवाद

लखनऊ । यूपी के चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कल मेरठ में स्वास्थ्य …

joshi

कन्या भ्रूण हत्या कानून को और सख्ती से लागू किया जाए: प्रो.रीता बहुगुणा जोशी

लखनऊ: प्रदेश की महिला कल्याण, परिवार कल्याण, मातृ-शिशु कल्याण मंत्री प्रो.रीता बहुगुणा जोशी ने आज परिवार …

swasthya seva

चिकित्सालयों में औषधियों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 152.52 करोड़ रुपये जारी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने समस्त राजकीय चिकित्सालयों में औषधियों की उपलब्धता सुनिश्चित किये जाने हेतु …

aurved

आयुष योजना में लापरवाही मिलने पर होगी कार्यवाही: मिशन निदेशक

लखनऊ: आयुष अस्पतालों में मरीजों को संक्रमण से बचाने के लिए चिकित्सालयों में साफ-सफाई, स्वच्छ वातावरण, …

WhatsApp Image 2018-10-22 at 3.42.41 PM (1)

सॉफ्ट स्किल से कम होगा स्वास्थ्यकर्मियों में तनाव

लखनऊ: केजीएमयू के अटल बिहारी वाजपेयी साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में स्वास्थ्यकर्मियों के लिए पहली सॉफ्ट स्किल वर्कशॉप का उदघाट्न सोमवार …

sankramak rog

कानपूर में डेंगू का प्रकोप, अब तक 280 हुए बीमार

कानपुर। मौसम में बदलाव से संक्रामक रोगों के लिए अनुकूल मौसम होने के बाद जिले में …