Breaking News
Home / खुली बहस / मतदान के प्रति उत्साह क्यों नहीं ? : सुरेश हिन्दुस्थानी
68

मतदान के प्रति उत्साह क्यों नहीं ? : सुरेश हिन्दुस्थानी

suresh hindustaniचुनाव आयोग और मतदान के प्रति जागरुकता लाने वाले प्रेरक संगठनों के तमाम प्रयासों के बाद भी मतदान के प्रति वैसा उत्साह अभी तक देखने में नहीं आ सका है, जैसी उम्मीद की जा रही थी। वास्तव में मतदान का प्रतिशत नहीं बढऩा कहीं न कहीं मतदाताओं की उदासीनता को ही प्रदर्शित कर रही हैं। सवाल यह है कि अपना जनप्रतिनिधि चुनने में मतदाता उदासीन क्यों होता जा रहा है, इसके पीछे कौन दोषी है? केवल राजनेता ही दोषी हैं या फिर जनता की निक्रियता भी दोष के दायरे में आती है। इन तमाम सवालों के उत्तर आज किसी के पास नहीं हैं। क्योंकि मतदान प्रतिशत बढ़ाने के तमाम प्रयासों के बाद भी नतीजा वही ढाक के तीन पात वाला ही है।
देश की जनता को यह भी समझना चाहिए कि यह अवसर मात्र एक दिवसीय कर्तव्य का नहीं है, बल्कि मतदान के दिन हम पांच वर्ष के लिए सरकार का चुनाव करते हैं। हम पूरे पांच वर्ष तक केवल सरकार की खामी निकालते रहते हैं, लेकिन जब उन खामियों का जवाब देने का समय आता है, तब हम निष्क्रिय होकर घर में बैठ जाते हैं। ऐसे में हम जो चाहते हैं, वैसा नहीं होता। दूसरे जैसा चाहते हैं, वैसा हो जाता है। मतदान के प्रति यह उदासीनता कहीं न कहीं हमें अपने राष्ट्रीय कर्तव्यों से भी दूर करता है। जरा स्मरण कीजिए कि आज देश में जो भी समस्याएं विद्यमान हैं, वे सभी स्वार्थी राजनीति के कारण ही हैं। राजनीतिक सरकारें तभी देश का भला कर सकती हैं, जब देश की जनता अपने राष्ट्रीय कर्तव्य के प्रति जागरुक हो। कहा जाता है कि भारत में जनता की सरकार है यानी लोकतंत्र है, लेकिन जब जनता ही सरकार चुनने में उदासीन हो जाए तो फिर क्या जनता की सरकार कहा जा सकता है। कदाचित नहीं। देश की जनता को यह भी तय करना होगा कि हम हमारी सरकार चुनने जा रहे हैं। राजनेता तो मात्र हमारे प्रतिनिधि के तौर पर ही चुने जाते हैं। फिर बहुत बड़ी मात्रा में देश की जनता इस राष्ट्रीय यज्ञ से दूरी बनाकर क्यों चल रही है। देश में लोकतंत्र की मजबूती के लिए जनता को जागरुक होना ही होगा, यह समय की मांग है।
68लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान हमने यह भी देखा कि चुनावी आमसभाओं और रैलियों में ताबड़तोड़ भीड़ दिखाई दे रही है, लेकिन यह भीड़ मतदाता बनकर मतदान केन्द्रों पर नहीं पहुंच रही। इसके कारण यह भी हो सकते हैं कि यह भीड़ केवल एकत्रित की गई हो। नहीं तो क्या कारण है कि रैलियों में आने वाला समूह मतदान केन्द्रों तक नहीं आ रहा है। वह समूह मात्र भीड़ की श्रेणी में अपने आपको स्थापित कर रहा है। अभी तक लोकसभा चुनाव के तीन चरणों का मतदान संपन्न हो चुका है, लेकिन आमसभाओं जैसी भीड़ दिखाई नहीं दे रही है। इसलिए कहा जा सकता है कि देश का मतदाता इस बार भी पूरे जोश में नहीं आया है। अभी तक का जो मतदान प्रतिशत आ रहा है, वह 60 प्रतिशत के आसपास ही है, ऐसे में यही कहा जा सकता है कि लगभग 40 प्रतिशत मतदाता अपने आपको चुनाव प्रक्रिया से दूर रखे हुए हैं। यहां सवाल यह आता है कि जब देश में 60 प्रतिशत मतदान होगा तो स्वाभाविक ही है कि कोई भी प्रत्याशी कुल मतों का मात्र 20 या 25 प्रतिशत मत प्राप्त करने पर भी विजयी हो सकता है। मात्र एक चौथाई जनता का प्रतिनिधित्व करने वाला व्यक्ति समस्त जनता द्वारा चुना गया प्रतिनिधि माना जा सकता है। यह एक ऐसा सवाल है जिसका उत्तर केवल तर्क ही हो सकता है, लेकिन वास्तव में यह उत्तर किसी भी प्रकार से समुचित नहीं कहा जा सकता। प्राय: देखा जा रहा है कि मतदान के प्रति जिस प्रकार की उदासीनता लम्बे समय से अनुभव की जा रही है, वह यही है कि मतदाता कहीं न कहीं लालच की प्रतीक्षा करता है, जब हम अपना वोट बेचने की कवायद करेंगे तो फिर वही भ्रष्टाचार का खेल होगा। अन्यथा ऐसा कैसे संभव है कि देश का वोटर उस भ्रष्टाचार को कैसे समर्थन दे जिससे निकलने की वह जी तोड़ प्रयास कर रहा है, जिस भ्रष्टाचार की जकड़ उसे पैर-पैर पर महसूस हो रही है।
अब देश की जागरुक जनता को भी यह समझना चाहिए कि मतदान के प्रति हम स्वयं तो जागरुक हों, साथ अपने आसपास रहने वाले व्यक्तियों को भी जागरुक करें, तभी लोकतंत्र का असली रुप सामने आ पाएगा। कहीं ऐसा न हो कि पर्याप्त मतदान के अभाव में बाद में पछताना पड़े। अभी इस बात को तय करें कि हम स्वयं तो मतदान करेंगे ही, साथ अपने साथ और मतदाताओं को भी मतदान के लिए लेकर जाएं। हम अपना कर्तव्य पूरी प्रामाणिकता के साथ निभाएं, तभी मतदान का प्रतिशत बढ़ सकता है।

1

सुरेश हिन्दुस्थानी
102 शुभदीप अपार्टमेंट
कमानी पुल के पास, लक्ष्मीगंज
लश्कर ग्वालियर मध्यप्रदेश

नोट: ये विचार लेखक सुरेश हिन्दुस्तानी के हैं। उनके विचारों का समर्थन सामना एक्टिविस्ट नहीं करता है। देश में संविधान की ओर से  सभी लोगों को लिखने व बोलने की अभिव्यक्ति दी गई है। ऐसे में संस्थान की ओर से उनके इस आलेख में किसी प्रकार का एडिट नहीं किया गया है। सुरेश हिन्दुस्तानी की मेल के आधार पर संस्थान  पोर्टल में जगह दे रहा है। इस लेख पर हुए किसी भी प्रकार के विवाद से संस्थान का कोई लेना देना नहीं है और न ही जवाब देही है।

Check Also

gautam copy

राजधानी के दो होनहारों ने यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट टॉप टेन में बनाई जगह

ब्यूरो । राजधानी के दो होनहारों ने यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट टॉप टेन में जगह बनाई …

kurashi

चुनाव आयोग मौजूदा कानून से ही सोशल मीडिया को कर सकता है नियंत्रित : एस वाई कुरैशी

नई दिल्ली: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी ने चुनाव में सोशल मीडिया के …

images

आचार संहिता के नाम पर पुलिस वसूल रही रुपये

लखनऊ । प्रदेश में छोटे व्यापारी, उद्यमी तथा नागरिकों का आदर्श आचार संहिता के नाम …

mahila

डर एवं भविष्य की चिंता के चलते चुप रहना उचित समझती है महिलाएं

लखनऊ: एनबीआरआई लखनऊ एवं सीएसआईआर-मानव संसाधन विकास केंद्र, गाज़ियाबाद द्वारा मंगलवार को लैंगिक जागरूकता एवं …

sapna  congreess 3

कहीं टिकट के खेल में सपना ने तो नहीं किया किनारा, कांग्रेस के सबूत से मिल रहा कुछ और इशारा

अपने ठुमको और अदाओं के चलते सुर्खियों में रही हरियाणवी डांसर सपना चौधरी इन दिनों राजनीति …

The Tashkent Files main

‘शास्त्री जी की मौत के रहस्य की पड़ताल’ करेगी फिल्म ‘दी ताशकंद फाइल्स’, 12 अप्रैल को होगी रिलीज

नई दिल्ली: ‘दी एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ ने भारतीय राजनीति में भूचाल लाया. उसके बाद 5 …