Breaking News
Home / गैलरी / 20 वर्षों से रोजा रखते आ रहे हैं लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव
80

20 वर्षों से रोजा रखते आ रहे हैं लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव

80रमजान में आपने अक्सर सुना होगा कि मुस्लिम समुदाय के लोग इस पूरे महीने रोजा रखते हैं। लेकिन कई हिंदू भी बड़े प्यार से रोजा रखते हैं। आज हम ऐसे ही एक रोजेदार के बारे में बताते हैं। बिहार के बक्सर जिले के डुमरांव के रहने वाले लेखक सह वरिष्ठ पत्रकार मुरली मनोहर श्रीवास्तव पिछले 20 वर्षों से रोजा करते आ रहे हैं। इन्हें रोजा पर आस्था और विश्वास है। हिंदु धर्म के प्रति आस्था रखने वाले इस भक्त की खासियत ये हैं कि नवरात्रि से लेकर रोजा रखने तक में अपनी आस्था को रखते हैं। मुरली मनोहर श्रीवास्तव पेशे से लेखक और पत्रकार हैं। इन्होंने बिस्मिल्लाह खां पर पुस्तक को लिख चुके हैं तथा कई पुस्तकें अभी और इनकी आने वाली है। इसके अलावे दर्जनों डॉक्यूमेंट्री भी बना चुके हैं। इसके अलावे बिस्मिल्लाह खां पर विश्वविद्यालय खोलने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं। इन्हें पूरा भरोसा है कि एक न एक दिन अल्लाह ताला इनकी हसरत को जरुर पूरा करेंगे।

लेखक कहते हैं जहां आस्था,वहीं भगवान है। जहां विश्वास, वहीं संपूर्ण ब्रह्मांड 

इस संदर्भ में पूछे जाने पर बताते हैं कि रोजा करने के लिए किसी ने इन्हें कहा या दबाव नहीं बनाया बल्कि एक बार अचानक लगा कि कोई इन्हें रोजा करने के लिए कह रहा है। मगर आज तक पता नहीं चला कि वो कौन था और अचानक से कहां चला गया। फिर क्या मुरली ने रोजा रखना शुरु कर दिया। शहनाई नवाज भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के साथ लंबा समय गुजारने वाले मुरली मनोहर श्रीवास्तव कई बार तो रमजान के महीने में उनके पास भी पहुंचकर रोजा रखा था। हां, ये बात अलग है कि तीस रोजा रख पाना अब इनके लिए मुमकिन नहीं हो पाता है जबकि अलविदा शुक्रवार को करना कभी नहीं भूलते हैं। हलांकि कोशिश करते हैं कि शुक्रवार को कभी न छोड़ें।

कहते हैं जहां आस्था है वहीं भगवान है। जहां विश्वास है वहीं संपूर्ण ब्रह्मांड है। चाहे कोई भी धर्म हो लेकिन खुदा की इबादत बस यही सीखाती है कि मानवता में विश्वास रखो। हर इंसान की कदर करना सीखो। रमजान में रोजे को अरबी में सोम कहते हैं, जिसका मतलब है रुकना। रोजा यानी तमाम बुराइयों से परहेज करना। रोजे में दिन भर भूखा व प्यासा ही रहा जाता है। इसी तरह यदि किसी जगह लोग किसी की बुराई कर रहे हैं तो रोजेदार के लिए ऐसे स्थान पर खड़ा होना मना है। रोजा झूठ, हिंसा, बुराई, रिश्वत तथा अन्य तमाम गलत कामों से बचने की प्रेरणा देता है।

Check Also

dutee-chand

भारत की स्टार धाविका दुती चंद ने कबूला ये सच, पूर्व में लग चुका है ये आरोप

नई दिल्ली: ”मुझे मेरी पार्टनर मिल गई है. मेरा मानना है कि हर किसी को अपने …

010

महंत देव्या गिरि ने की आदि माँ गोमती की महाआरती

लखनऊ । ‘ बुध एवं वैशाख शुक्ल पूर्णिमा ‘ के अवसर पर नमोस्तुते माँ गोमती …

aroda

लवासा के आरोप पर सीईसी का जवाब, मैं बहस से नहीं भागता लेकिन हर चीज का वक्त होता है.

नई दिल्ली: चुनाव आचार संहिता में क्लीन चिट को लेकर चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने …

oyp (1)

ओयो होम के गेम्स आधारित होम स्टे से गर्मी की छुट्टिया बनेंगी कूल

भारतीय लोग अक्सर गर्मियों में उंचे तापमान और उमस से परेशान हो जाते हैं। इस …

ramjan

रोज़ा अफ़्तार में दी हज़ारों मुसलमानों को रमज़ान की मुबारकबाद

लखनऊ । सामाजिक संगठन तहरीक फिक्र-ए-मिल्लत फाउण्डेशन उप्र की ओर से हर साल की तरह इस …

Anusha Srinivasan Iyer, Ashfaque Khopekar, Babubhai Thiba and Ravi Dubey at the Dadasaheb Phalke Film Foundation Awards 2019

शॉर्ट फ़िल्म ‘सारे सपने अपने हैं’ के लिए अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को बेस्ट लेखक-निर्देशक अवॉर्ड

मुंबई: दादासाहेब फाल्के फ़िल्म फ़ाउंडेशन अवॉर्ड्स को भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी कलात्मकता प्रस्तुति और तकनीकी …