Breaking News
Home / गैलरी / 20 वर्षों से रोजा रखते आ रहे हैं लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव
80

20 वर्षों से रोजा रखते आ रहे हैं लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव

80रमजान में आपने अक्सर सुना होगा कि मुस्लिम समुदाय के लोग इस पूरे महीने रोजा रखते हैं। लेकिन कई हिंदू भी बड़े प्यार से रोजा रखते हैं। आज हम ऐसे ही एक रोजेदार के बारे में बताते हैं। बिहार के बक्सर जिले के डुमरांव के रहने वाले लेखक सह वरिष्ठ पत्रकार मुरली मनोहर श्रीवास्तव पिछले 20 वर्षों से रोजा करते आ रहे हैं। इन्हें रोजा पर आस्था और विश्वास है। हिंदु धर्म के प्रति आस्था रखने वाले इस भक्त की खासियत ये हैं कि नवरात्रि से लेकर रोजा रखने तक में अपनी आस्था को रखते हैं। मुरली मनोहर श्रीवास्तव पेशे से लेखक और पत्रकार हैं। इन्होंने बिस्मिल्लाह खां पर पुस्तक को लिख चुके हैं तथा कई पुस्तकें अभी और इनकी आने वाली है। इसके अलावे दर्जनों डॉक्यूमेंट्री भी बना चुके हैं। इसके अलावे बिस्मिल्लाह खां पर विश्वविद्यालय खोलने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं। इन्हें पूरा भरोसा है कि एक न एक दिन अल्लाह ताला इनकी हसरत को जरुर पूरा करेंगे।

लेखक कहते हैं जहां आस्था,वहीं भगवान है। जहां विश्वास, वहीं संपूर्ण ब्रह्मांड 

इस संदर्भ में पूछे जाने पर बताते हैं कि रोजा करने के लिए किसी ने इन्हें कहा या दबाव नहीं बनाया बल्कि एक बार अचानक लगा कि कोई इन्हें रोजा करने के लिए कह रहा है। मगर आज तक पता नहीं चला कि वो कौन था और अचानक से कहां चला गया। फिर क्या मुरली ने रोजा रखना शुरु कर दिया। शहनाई नवाज भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के साथ लंबा समय गुजारने वाले मुरली मनोहर श्रीवास्तव कई बार तो रमजान के महीने में उनके पास भी पहुंचकर रोजा रखा था। हां, ये बात अलग है कि तीस रोजा रख पाना अब इनके लिए मुमकिन नहीं हो पाता है जबकि अलविदा शुक्रवार को करना कभी नहीं भूलते हैं। हलांकि कोशिश करते हैं कि शुक्रवार को कभी न छोड़ें।

कहते हैं जहां आस्था है वहीं भगवान है। जहां विश्वास है वहीं संपूर्ण ब्रह्मांड है। चाहे कोई भी धर्म हो लेकिन खुदा की इबादत बस यही सीखाती है कि मानवता में विश्वास रखो। हर इंसान की कदर करना सीखो। रमजान में रोजे को अरबी में सोम कहते हैं, जिसका मतलब है रुकना। रोजा यानी तमाम बुराइयों से परहेज करना। रोजे में दिन भर भूखा व प्यासा ही रहा जाता है। इसी तरह यदि किसी जगह लोग किसी की बुराई कर रहे हैं तो रोजेदार के लिए ऐसे स्थान पर खड़ा होना मना है। रोजा झूठ, हिंसा, बुराई, रिश्वत तथा अन्य तमाम गलत कामों से बचने की प्रेरणा देता है।

Check Also

Rouble Nagi and Shekhar Ravjiani with kids at the inauguration of Misaal Mumbai's Balwadi Edu Hub & Skill Centre at Jaffar Baba Colony, Bandra W

मिसाल मुंबई के बालवाड़ी एन्ड स्किल सेंटर का आशीष और शेखर ने किया अनावरण

मुंबई, 16 अगस्त, 2019: रुबल नागी ने आदरणीय मंत्री आशीष शेलार के सहयोग और रूबल …

cut

कैंसर रोगियों का वृक्षारोपण करना अनूठी पहल : मेयर संयुक्ता भाटिया

लखनऊ, 16 अगस्त, 2019। कहते हैं खुद चलने से ही मंजिलें मिलती हैं और कोशिश करने …

DSC_0037

1090 चौराहे पर मना आज़ादी का जश्न, 73 किलो महालड्डू के साथ सिवई और गुझिया का हुआ वितरण   

लखनऊ। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी जश्न-ए-आज़ादी समिति द्वारा राष्ट्रभक्ति और देशप्रेम से …

sagar

अमर शहीदों की महान कुर्बानियों और त्याग के बाद मिली है स्वतंत्रता : विराज सागर दास

लखनऊ । बीबीडी ग्रुप के चेयरमैन, यूपी  बैडमिन्टन एसोसिएशन के चेयरमैन, उपाध्यक्ष बैडमिन्टन एसोसिएशन आफ इण्डिया …

IMG-20190814-WA0003 cut

तिरंगी राखियां बांध कर नन्हें-मुन्नों ने मनाया स्वतंत्रता दिवस

लखनऊ। इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस तथा रक्षाबंधन का पर्व एक साथ आने से बच्चों में बहुत …

abhiyan

हरियाणा के जिला पलवल में लक्ष्य कमांडरों की सामाजिक चर्चा

हरियाणा, पलवल |  लक्ष्य की पलवल टीम ने ” गांव गांव भीम चर्चा” अभियान के …