Breaking News
Home / खुली बहस / प्रत्येक 10,000 बीजों में से मात्र एक ही बन पाता है ओक वृक्ष: अलबर्ट रीफ 
DSC_1383

प्रत्येक 10,000 बीजों में से मात्र एक ही बन पाता है ओक वृक्ष: अलबर्ट रीफ 

DSC_1383लखनऊ: यूं तो हिमालयी ओक वनों की पुनुरुत्पादन क्षमता काफी अच्छी है किन्तु अंकुरों के पूर्ण विकसित वृक्षों में बदल पाने की दर काफी कम है. इसके चलते प्रत्येक 10,000 बीजों में से मात्र एक ही वृक्ष में परिवर्तित हो पाता है. वही हिमालय में चीड़ वृक्षों द्वारा ओक वनों के अतिक्रमण से  ओक वनों के अस्तित्व पर संकट उत्पन्न हो गया है.

ओक वनों पर जलवायु परिवर्तनों एवं मानवीय गतिविधियों के प्रभावों पर चर्चा

यह बात  इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ एनवायरनमेंटल बॉटनिस्ट्स (आईएसईबी) और  राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआई) द्वाराआयोजित पौधों एवं पर्यावरणीय प्रदूषण पर छठे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन जर्मनी से आए हुए प्रो अलबर्ट रीफ ने ओक वनों केपुनुर्त्पादन पर आधारित अपने विशिष्ट व्याख्यान में कही. उन्होंने बताया कि ओक वन अनेकों उत्पादों एवं पारिस्थितिक सेवाओं का स्रोत हैं जिनमें जिनमें इमारती लकड़ी, जलाऊ ईंधन, छाल से प्राप्त होने वाले टैनिन आदि प्रमुख हैं. जीवों द्वारा फलों एवं बीजों का भोजन के रूप में उपयोग, परजीवी फफूंदों का संक्रमण, अन्य वनस्पतियों के साथ प्राकृतिक संसाधनों के लिए प्रतियोगिता, भू.जल की उपलब्धता जैसेअनेकों कारक इन वनों के अंकुरण. स्थापन एवं वृद्धि को प्रभावित करते हैं.

 भारतीय हिमालय में  संकट ग्रस्त स्थिति से गुजर रहे हैं ओक वन

DSC_1337पृथ्वी के उपोष्ण एवं उष्ण कटिबंधीय इलाकों में पाए जाने वाले ओक वनों पर जलवायु परिवर्तनए प्रदूषण एवं मानवीय गतिविधियों के प्रभावों पर एक विशिष्ट सत्र में बोलते हुए प्रो अलबर्ट रीफ ने कहा कि कई पर्णपाती ओक प्रजातियाँ तनाव सहने करने की क्षमता भी रखतीहैं. उन्होंने हिमालय में ओक वनों पर किये गए शोध कार्यों पर चर्चा करते हुए कहा कि भारतीय हिमालय में ओक वन संकट ग्रस्त स्थितिसे गुजर रहे हैं. हिमालयी ओक वनों की पुनुरुत्पादन क्षमता काफी अच्छी है किन्तु अंकुरों के पूर्ण विकसित वृक्षों में बदल पाने की दर काफी कम है और प्रत्येक 10, 000 बीजों में से मात्र एक ही वृक्ष में परिवर्तित हो पाता है. ऐसा इसलिए है कि वनों की सतह से मनुष्यों द्वारा वन्य अवशेषों के एकत्रीकरण से अक्सर फल एवं बीज या तो जंतुओं द्वारा खा लिए जाते हैं अथवा जल्दी सूख जाते हैं जिनसे इनके अंकुरण एवं स्थापना पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. ओक वन मुख्यतः पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में पाए जाते हैं एवं ठन्डे इलाकों से लेकर उष्ण कटिबंधीय एशिया एवं अमेरिका तक फैले हुए हैं.

देश में मात्र 30 प्रतिशत रह गए हैं ओक वन

इसके पूर्व एनबीआरआई के निदेशक प्रो.एस के बारिक ने कहा कि भारत के ओक वनों की आबादियाँ घट कर मात्र 30 प्रतिशत रह गयी हैं. उन्होंने कहा कि भारत में इन वृक्षों का मुख्य उपयोग जलाऊ इन्धन की लकड़ी के रूप में ही होता है जिसके चलते इनकी संख्या दिनों दिन घटती जा रही हैं. आज  कुल 9 विशिष्ट व्याख्यानों, 48 मौखिक प्रस्तुतियों एवं 73 पोस्टर प्रस्तुतियों के माध्यम से विभिन्न विषयों पर किये गए शोध कार्यों को प्रस्तुत किया गया. इसके अतिरिक्त जलवायु परिवर्तन, खाद्य सुरक्षा, पर्यावरणीय प्रभाव आंकलन, पर्यावरणीय जैवप्रौद्योगिकी एवं सूक्ष्म जैविकी से सम्बंधित विषयों पर भी सत्र आयोजित किये गए जिनमे विभिन्न शोध कार्यों में से प्रमुख रूप से डॉआलोक सिन्हा ने धान के पौधों पर जलमग्नता को सहन करने की क्षमता के नियंत्रण पर चर्चा की.डॉ अनीता शर्मा ने राजस्थान में पुष्कर सरोवर की जल गुणवत्ता पर धार्मिक गतिविधियों के प्रभाव पर चर्चा की.

Check Also

Shivam Mavi1

रणजी क्वार्टर फाइनल: यूपी के गेंदबाजों के आगे नहीं चले सौराष्ट्र के बल्लेबाज, पुजारा भी फ्लॉप 

लखनऊ । गेंदबाजो के धारदार प्रदर्शन के चलते यूपी ने बुधवार को यहां रणजी के …

yupi

यूपी राज्य महिला आयोग मुख्यालय पर हुई जनसुनवाई

लखनऊ: यूपी राज्य महिला आयोग द्वारा प्रदेश में महिला उत्पीड़न की घटनाओं पर रोकथाम और …

gaav

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए ‘महात्मा गांधी खाद्य प्रसंस्करण ग्राम स्वरोजगार योजना’ शुरू

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार के अन्तर्गत उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार …

sainik

सहायक अध्यापकों की भर्ती में भूतपूर्व सैनिक भी आरक्षित वर्ग में लाभार्थी 

  लखनऊ: प्रदेश के अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा डा. प्रभात कुमार ने बताया कि सहायक …

haj

हज-2019 : अब तीन किश्तों में जमा कर सकते है हज यात्रा की रकम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश राज्य हज समिति के सचिव विनीत कुमार श्रीवास्तव ने यहां बताया कि हज …

sss

प्रश्न-पत्र रखे जाने वाले स्थान पर 24 घण्टे होगी सीसीटीवी कैमरे की निगरानी 

लखनऊ: प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा ने माध्यमिक शिक्षा परिषद यूपी, प्रयागराज द्वारा संचालित वर्ष …