July 23, 2021

एनबीआरआई का 67 वां वार्षिक दिवस, नवीन किस्मों के विकास में उल्लेखनीय योगदान

Share This News

सीएसआईआर- राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआई), लखनऊ ने 27 अक्टूबर, 2020 को अपना 67 वां वार्षिक दिवस मनाया. इस अवसर पर प्रो.जेपी खुराना (इंसा उपाध्यक्ष (अंतरराष्ट्रीय मामलें, पूर्व प्रमुख, पादप आणुविक जैविकी विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय ) मुख्य अतिथि थे. समारोह की अध्यक्षता डॉ शेखर सी मांडे (महानिदेशक सीएसआईआर और सचिव डीएसआईआर ने की.

प्रोफेसर जेपी खुराना ने ‘प्लांट विजन में आणुविक अंतर्दृष्टि’ शीर्षक पर आधारित अपने वार्षिक दिवस व्याख्यान में पौधों के जीवन में प्रकाश के महत्व और पौधों के जीवन के विभिन्न विकास चरणों को विनियमित करने में प्रकाश की भूमिका पर चर्चा की. उन्होंने प्रकाश संकेतन में शामिल जटिल आणुविक ढांचे में फाइटोक्रोमेस और क्रिप्टोक्रोम की भूमिका को स्पष्ट किया.

अध्यक्षीय भाषण में डॉ.एससी मांडे ने मुख्यतः नवीन किस्मों के विकास के साथ सीएसआईआर-एनबीआरआई के हालिया शोध और विकास गतिविधियों की सराहना की और वैज्ञानिकों को आम जनमानस तक पहुँचने वाले शोध कार्यों के लिए बधाई दी. उन्होंने उल्लेख किया कि सीएसआईआर-एनबीआरआई का एक उल्लेखनीय इतिहास और पादप आधारित अनुसंधान में एक विशेष स्थान है.

कार्यक्रम में संस्थान की वार्षिक रिपोर्ट 2019-20 जारी की गयी. संस्थान के निदेशक प्रो एसके बारिक ने वर्ष 2019-20 की अवधि के लिए वार्षिक प्रगति प्रस्तुत की और इस अवधि के दौरान संस्थान द्वारा हासिल की गई प्रमुख उपलब्धियों के बारे में सूचित किया.

इस अवसर पर सीएसआईआर-एनबीआरआई द्वारा विकसित हर्बल उत्पाद NBRI-Uro-05 (गुर्दे की पथरी को ठीक करने के लिए) की प्रौद्योगिकी को मेसर्स मार्क लेबोरेटरी, लखनऊ को स्थानांतरित किया गया. प्रेम किशोर (सीएमडी, मेसर्स मार्क लेबोरेटरीज, लखनऊ) ने इस अवसर पर कहा कि कंपनी शीघ्रातिशीघ इस हर्बल दवा को बाजार में उपलब्ध कराएगी.

इसके साथ सार्वजनिक-निजी साझेदारी मॉडल के तहत मणिपुर में विभिन्न कृषि स्थितियों के लिए उच्च सीबीडी और कम साइकोट्रॉपिक यौगिकों वाली कैनबिस लाइनों के विकास एवं और इनसे औषधीय और प्रसाधन उत्पादों के विकास हेतु एक नई परियोजना की शुरुआत की गयी. परियोजना में मैसर्स इंडिका न्यूट्रास्युटिकल एलएलपी, नई दिल्ली इंडस्ट्री पार्टनर की तरह काम करेगी. समारोह के अंत में डॉ पीए शिर्के ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया.

NBRI-Uro-05 :

  • यूरोलिथियासिस, नेफ्रोलिथियासिस और पोस्ट लिथोट्रिप्सी स्थितियों यानी एक्स्ट्रा कॉर्पोरल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी (ESWL) की स्थितियों में सुधार हेतु एक सहक्रियात्मक हर्बल संयोजन.
  • इस हर्बल उत्पाद के अवयवों के रूप में पाँच जड़ी-बूटियाँ सम्मिलित हैं जो देश भर में आसानी से उपलब्ध
  •  प्रयोग से चूहों में रीनल कॉर्टेक्स (गुर्दे) की पथरियों के स्तर में 70% कमी के साथ पथरियों की संख्या में 80% की कमी.
  • विकसित करने वाली टीम-संस्थान के निदेशक प्रो. एस के बारिक, डॉ. शरद के श्रीवास्तव और डॉ. अंकिता मिश्रा, सीएसआईआर-आईआईटीआर के डॉ. विकास श्रीवास्तव, डॉ. धीरेंद्र सिंह और डॉ. हफीजुर्रहमान खान एवं केजीएमयू, लखनऊ से डॉ. एसएन संखवार एवं डॉ. सलिल टंडन.

प्रमुख उपलब्धि

  • छह नई प्रजातियों और भारत के नए भौगोलिक रिकॉर्ड के रूप में 21 प्रजातियों को खोजा गया; टमाटर के विल्ट रोग प्रबंधन के लिए छह प्रतिरोधी अन्तः-पादपीय जीवाणुओं की पहचान
  • औषधीय एवं औद्योगिक उपयोग के लिए बेहतर कैनाबिस लाइनों का विकास
  • गुलदाउदी की दो नई किस्में ‘एनबीआरआई-पुखराज’ एवं ‘एनबीआरआई-शेखर’ विकसित एवं जारी
  • बेहतर कपास लाइनों के विकास के लिए कपास मिशन भी शुरू
  • घाव भरने में तेजी लाने और घाव में संक्रमण को कम करने के लिए एक सरल और सुगम बायोजेनिक सिल्वर नैनोपार्टिकल्स (BSNP) विकसित

Share This News

6 thoughts on “एनबीआरआई का 67 वां वार्षिक दिवस, नवीन किस्मों के विकास में उल्लेखनीय योगदान

  1. Hi there! I’m at work surfing around your blog from my new iphone! Just wanted to say I love reading your blog and look forward to all your posts! Carry on the excellent work!|

  2. Magnificent site. Lots of useful information here. I’m sending it to a few buddies ans also sharing in delicious. And of course, thank you on your sweat!|

  3. Hi there, i read your blog occasionally and i own a similar one and i was just wondering if you get a lot of spam responses? If so how do you prevent it, any plugin or anything you can advise? I get so much lately it’s driving me insane so any assistance is very much appreciated.|

  4. An impressive share! I’ve just forwarded this onto a co-worker who was doing a little research on this. And he in fact ordered me breakfast simply because I found it for him… lol. So let me reword this…. Thank YOU for the meal!! But yeah, thanx for spending the time to discuss this issue here on your web page.|

  5. I’ll immediately seize your rss as I can not in finding your email subscription hyperlink or newsletter service. Do you’ve any? Please let me understand so that I may subscribe. Thanks.|

Comments are closed.