July 24, 2021

ओलंपिक में इस इवेंट में कमाल दिखा सकती है यूपी की एथलीट प्रियंका गोस्वामी

Share This News

यूपी की बेटी प्रियंका गोस्वामी ने पैदल चाल टूर्नामेंट में 20 किलोमीटर की दौड़ 1 घंटा 28 मिनट 45 सेकेंड में पूरी करते हुए गोल्ड मैडल अपने नाम किया था. इस गोल्ड की वजह से प्रियंका को ओलंपिक का टिकट हासिल हुआ था. उनके बारे में पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में जिक्र करते हुए उनकी तारीफ की थी.

ओलंपिक में उनसे पदक की उम्मीद की जा रही है. प्रियंका ओलंपिक के लिए निकल चुकी है और भरोसा जता रही है कि टोक्यो में भारत का तिरंगा लहराना के लिए पूरा जोर लगा देगी. वर्ष 1998 में बैंकाक में आयोजित 13वें एशियाई खेलों में 10 हजार मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीतने वाले गुलाब ने कहा ये अच्छी बात है कि इस बार यूपी से दस खिलाड़ी ओलंपिक में अपनी दावेदारी पेश करेंगे.

उन्होंने प्रियंका गोस्वामी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि वो टॉप-3 में जगह बना सकती है और देश के लिए पदक जीत सकती है. प्रियंका के कोच गौरव त्यागी हाल में मीडिया में कहा था कि मन में लगन और कुछ कर दिखाने का जज्बा प्रियंका को आज इस मुकाम तक ले आया है.

ये भी पढ़े : भाला फेंक में भारत से चमक बिखेर सकती है यूपी की अन्नू रानी

ये भी पढ़े :  यूपी की अन्नू रानी को जैवलिन थ्रो में ऐसे हासिल हुआ ओलंपिक कोटा

प्रियंका ने कई नेशनल और इंटरनेशनल अवार्ड जीते हैं. ओलंपिक में क्वालीफाई करने पर राजधानी लखनऊ के एथलीटों ने खुशी जाहिर की और उम्मीद की है प्रियंका ओलंपिक में देश के लिए पदक जीतेगी. प्रियंका गोस्वामी मेरठ की रहने वाली है. उन्होंने कैलाश प्रकाश स्टेडियम से अपना सफर की शुरुआत की थी और पीछे मुड़कर नहीं देखा. उनके घर के हालात ठीक नहीं है.

उनके पिता एक बस कंडक्टर थे. इतना ही नहीं उनकी नौकरी भी जा चुकी है लेकिन बेटी ने खेलों की दुनिया में कुछ अलग करने के इरादे से निकली और संघर्ष और जद्दोजहद के बाद प्रियंका ओलंपिक में भारत का नाम रौशन करने वाली है. प्रियंका पहले जिमनास्ट में अपना दम-खम दिखाती थी.

वर्ष 2007-08 में लखनऊ छात्रावास में रहीं प्रियंका कुछ समय बाद जिमनास्टिक से किनारा कर लिया और तीन साल बाद वो एथलेटिक्स की दुनिया में उतारी और सफलता उनके कदमों में है. 29 वर्षीय इस समय एनईआर बरेली में जूनियर क्लर्क हैं.

प्रियंका की उपलब्धि

प्रियंका (वर्ष 2015 रेस वॉकिंग राष्ट्रीय चैंपियनशिप कांस्य पदक)

मैंगलोर (फेडरेशन कप तीसरा स्थान कांस्य पदक)

साल 2017 (दिल्ली नेशनल रेस वॉकिंग चैंपियनशिप गोल्ड)

साल 2018 (खेल कोटे रेलवे प्रियंका क्लर्क नौकरी)


Share This News