Breaking News
Home / बिजनेस / ऋणदाता को आवेदन करने से पहले अपने सभी विकल्पों पर करें ऑनलाइन शोध
cre

ऋणदाता को आवेदन करने से पहले अपने सभी विकल्पों पर करें ऑनलाइन शोध

cre‘न उधार दो और न लो’, जोखिम से बचने और अधिक सतर्क रहने के लिए बनाई गई यह युगों पुरानी कहावत आज चलन से बाहर हो गई है। आज की दुनिया में, उपभोक्तावाद के उदय के साथ-साथ स्वास्थ्य सेवाओं की बढ़ती लागतों से लेकर अपना आशियाना बनाने की कवायद में शायद ही ऐसा कोई हो, जिसका काम लोन लिए बिना चल जाए। हृषिकेश मेहता, कंट्री मैनेजर – इंडिया, क्लीयरस्कोर ने कहा, 28 वर्षीय आतिश के लिए, नकदी कभी एक मुद्दा नहीं रही। बेंगलुरू स्थित एक स्टार्ट-अप में सॉफ्टवेयर आर्टिटेक्ट के रूप में अपनी नई नौकरी ने उनके करियर को सही समय पर जरूरी गति दे दी, समय के साथ अच्छी वेतन वृद्धि भी होती चली गई। मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले आतिश को किराये के अपार्टमेंट के लिए फर्नीचर में कुछ प्रारंभिक खर्च भी करना पड़ा और भारत के सिलिकॉन वैली में अपना जीवन शुरू करने के लिए एक नई कार खरीदनी पड़ी। यह देखते हुए कि उनका क्रेडिट स्कोर 780 इतना बेहतर था कि इन नई बड़ी खरीद को निधि देने के लिए ऋण एक समस्या नहीं थी।
सिर्फ अच्छे क्रेडिट स्कोर से ही नहीं बनेगी बात  
आतिश के पास पहले से ही एक शिक्षा ऋण और एक क्रेडिट कार्ड था जो हमेशा समय पर चुकाए जाते थे। कुल मिलाकर, उनके पास एक मजबूत क्रेडिट इतिहास था। कहते है न कि जीवन अनिश्चित है और कुछ भी हो सकता है। परिवार में अचानक होने वाली बीमारी ऐसी चीज नहीं है जिसकी कोई भविष्यवाणी कर सकता है, हालांकि, कोई इसके लिए तैयार रह सकता है। आतिश के संबंध में पहले से ही बीमा होने के बावजूद अस्पताल में भर्ती होने के कुछ दिनों के भीतर कवरेज की सीमा समाप्त हो गई थी। आतिश ने चिकित्सा खर्च में अपने परिवार की मदद करने के लिए एक पर्सनल लोन लेने का फैसला किया। उनके क्रेडिट स्कोर को देखते हुए, उन्हें यकीन था कि उनका ऋण आवेदन स्वीकृत हो जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हालांकि उच्च क्रेडिट स्कोर एक आवश्यकता है, लेकिन यह जरूरी नहीं है कि सिर्फ इतने से ही आपका ऋण आवेदन स्वीकृत हो जाएगा। आतिश के मामले में, वह एक ही समय में बहुत अधिक ऋण ले रहे हैं, तीन ऋणों में से, दो ऋण – शिक्षा और व्यक्तिगत ऋण – असुरक्षित हैं, जबकि, कार ऋण सुरक्षित है। इससे वह ओवर-लिवर हो गया। इसका अर्थ है कि आय अनुपात में ऋण 50 फीसदी से ऊपर हो गया था, जिसने उसे आगे के ऋण के लिए अयोग्य बना दिया, हालांकि उनका क्रेडिट स्कोर बहुत अच्छा था। ऋणदाताओं का विचार है कि आपकी आय का 50 फीसदी आपके रहने के खर्चों को कवर करने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए, इसके चलते आपके ऋण का स्तर आपकी आय के 50 फीसदी तक बढ़ जाता है तो ऋण प्राप्त करने की संभावना कम है। यह समझने के लिए कि किसी ऋण आवेदन की समीक्षा कैसे की जाती है, आइए निम्नलिखित परिदृश्य पर विचार करें।
 मान लीजिए, एक व्यक्ति है, जिसकी वर्तमान शुद्ध मासिक आय रु 50,000 है। एक लोन चल रहा है, जिसकी ईएमआई 15,000 रुपये की है। इसलिए 50 फीसदी आय जीवन निर्वाह के लिए मानकर शुद्ध आय 10,000 रुपए निकलती है। अब व्यक्ति दूसरे ऋण के लिए पात्र है – 10 लाख रुपए का गृह ऋण या 3 लाख रुपये का व्यक्तिगत ऋण। ईएमआई का यह अतिरिक्त बोझ 10,000 रुपये की उपलब्ध आय से लिया जा सकता है जैसा कि ऊपर बताया गया है। हालांकि, दूसरी ओर, यदि आपके मासिक खर्च बढ़कर 30,000 रुपए के हो जाते हैं तो व्यक्ति किसी भी ऋणदाता से ऋण प्राप्त करने में सक्षम नहीं होगा। जबकि एक उच्च क्रेडिट स्कोर और एक साफसुथरा क्रेडिट इतिहास ऋण स्वीकृति की दिशा में मदद करेगा, फिर भी यह अकेला कारक ऋण स्वीकृति की गारंटी नहीं देता है। प्रबंधनीय ऋण स्तर भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऋणदाता हमेशा उन अनुशासित ग्राहकों को ऋण और क्रेडिट कार्ड प्रदान करने के इच्छुक होते हैं, जिनके पास एक उच्च क्रेडिट स्कोर और एक स्वस्थ क्रेडिट इतिहास होता है। एक और बात का ध्यान रखें कि एक ही समय में कई ऋणदाताओं से आवेदन करने से बचें। जल्दी ऋण प्राप्त करने के प्रयास में, यह उलटा असर कर सकता है।
यह ‘लोन स्टैकिंग’ को जन्म देता है और ऋणदाता किनारा कर सकते हैं। लोन स्टैकिंग तब होता है जब कोई उपभोक्ता अधिक ऋण प्राप्त करने के प्रयास में एक ही समय में विभिन्न ऋणदाताओं से कई आवेदन करता है, और एक ऋणदाता को यह पता चलता है कि एक अन्य ऋणदाता ने पहले ही उपभोक्ता का लाभ उठाया है। उदाहरण के लिए, मान लें कि आतिश ने उसी दिन ऋणदाता ए, बी और सी के लिए आवेदन किया था। ऋणदाता बी, आतिश की क्रेडिट रिपोर्ट पर ए को ‘पूछताछ’ के रूप में ऋण देने के लिए आवेदन देखेगा। बदले में, ऋणदाता सी, ए और बी को ऋण देने के लिए आवेदन पत्र देखेगा। इसके परिणामस्वरूप संभवतः उधारकर्ता बी और सी, आतिश के आवेदन को अस्वीकार कर देंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि नए ऋण के लिए क्रेडिट ब्यूरो को सूचित करने के लिए एक सप्ताह से एक महीने तक कहीं भी लग सकता है। भारत में 4 हैं – एक्सपेरियन, इक्विफैक्स, सीआरआईएफ और ट्रांसयूनियन सीआईबीआईएल। उधारदाताओं बी और सी को पता नहीं होगा कि क्या ऋणदाता ए ने ऋण को मंजूरी दी है और इसलिए वे आतिश को ओवर-लिवर नहीं करना चाहेंगे।

 अब यदि ऋणदाता किसी भी कारण से आतिश के ऋण को अस्वीकार करता है तो आतिश को दूसरे बैंक में आवेदन करने से पहले 30 दिनों तक इंतजार करना होगा। ऐसे में जब आतिश को तुरंत ऋण की आवश्यकता है, तो यह सबसे अच्छा परिणाम नहीं है। इसे हल करने का विवेकपूर्ण तरीका यह है कि आप ऋण बाजारों पर सबसे अच्छे विकल्पों पर शोध करें, जो आपको एक आवेदन करने से पहले ऐसी जांच का बखेड़ा खड़ा नहीं करते हैं और आपको पात्रता मानदंड प्रदान करते हैं। संक्षेप में, अपने वित्त के शीर्ष पर बने रहना और यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आपका क्रेडिट स्कोर और रिपोर्ट स्वस्थ हो। इसके अलावा, यह सुनिश्चित करना अत्यावश्यक है कि आपके ऋण दायित्वों में आपकी आय का 50 फीसदी से अधिक न हो, ताकि जब आप किसी आपातकालीन चिकित्सा व्यय के लिए या सपनों का घर खरीदने के लिए इसकी आवश्यकता हो, तो आपके क्रेडिट तक पहुंच बाधित न हो। अंत में, केवल एक ही स्थान पर और एक ऋणदाता को एक आवेदन करने से पहले अपने सभी विकल्पों पर भरपूर ऑनलाइन शोध करें।

Check Also

Farhana Haque, Group Director, Devices, Microsoft India discussing SMEs increasing their growth by using modern PCs

पुराने पीसी के रखरखाव, मरम्मत, कम उत्पादकता के कारण अतिरिक्त लागत का पड़ता है भार

लखनऊ:चार साल से पुराने पीसी उपयोग कर रहे  एस एम ई  को प्रति डिवाइस 93500 …

kkkkk

लखनवी चिकन वस्त्रों के नवनिर्मित शोरूम वीर सन्स का हुआ शुभारम्भ

लखनऊ: जनपथ मार्केट में सुरेन्द्र जैन के लखनवी चिकन वस्त्रों के नवनिर्मित शोरूम वीर सन्स …

Mars Gomo Pack shot

स्कूली बच्चों में पोषण की कमी दूर करने में मदद करेगी गोमो दाल क्रंचीज़

लखनऊः लक्षित पोषण के माध्यम से मानव स्वास्थ्य एवं कल्याण के लिए समर्पित मार्स इनकोरपोरेटेड के …

011

इलेक्ट्रिक वाहनों की सीरीज के साथ ‘ सहारा इवाॅल्स ’ ने ऑटोमोबाइल क्षेत्र में रखा कदम

लखनऊ । ‘सहारा इवाॅल्स’ ब्रांड के तहत सहारा समूह ने देश की इलेक्ट्रिक वाहनों की विशाल श्रृंखला …

4

जॉन डियर ने पेेेश किये ट्रैक्टर के सात नये मॉडल

इंदौर ।  उपकरणों के क्षेत्र में लीडर और अभिनव उत्पादों व सेवाओं के लिए जाने …

Photo Dabur 1

डाबर यूपी में 19,00,000 किग्रा प्लास्टिक वेस्ट करेगा रीसायकल

लखनऊ: पर्यावरण स्थिरताको लेकर अपनी प्रतिबद्धता की तरफ़ आगे बढ़ते हुए भारत की सबसे बड़ी विज्ञान-आधारित …