July 24, 2021

बोपन्ना ने लगाया गुमराह करने का आरोप, टेनिस संघ ने बोली ये बात

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

टोक्यो ओलंपिक के लिए कट हासिल करने में नाकाम रहने के बाद युगल टेनिस प्लेयर रोहन बोपन्ना ने दिविज शरण पर अखिल भारतीय टेनिस संघ पर सभी को गुमराह करने का आरोप लगाया. बोपन्ना ने बोला कि एआईटीए ने सुमित नागल के साथ उनकी जोड़ी बनाकर बोला कि क्वालिफिकेशन हासिल करने का अवसर है.

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

एआईटीए ने बोपन्ना पर पलटवार करते हुए बोला कि उसने सिर्फ उनकी मदद करने की कोशिश की क्योंकि वो अपने दम पर क्वालीफाई करने में विफल रहे थे. एआईटीए ने ओलंपिक में पुरुष युगल स्पर्धा के लिए पहले बोपन्ना और शरण के नाम की नामांकन का ऐलान किया था. बोपन्ना (विश्व रैंकिंग 38) और शरण (विश्व रैंकिंग 75) की संयुक्त रैंकिंग 113 क्वालिफिकेशन हासिल करने में विफल रही.

ये भी पढ़े : ओलंपिक में इस इवेंट में कमाल दिखा सकती है यूपी की एथलीट प्रियंका गोस्वामी

अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ के मुताबिक 16 जुलाई की समय सीमा से कुछ दिन पहले ये जोड़ी विकल्प की सूची में पांचवें पायदान पर थी. नागल ने इसके बाद पुरुष एकल के लिए क्वालिफाई किया. कोरोना की वजह से ओलंपिक में टेनिस में युगल मुकाबलों को उन प्लेयर्स को प्राथमिकता मिली है जिन्होंने एकल के लिए क्वालिफाई किया है. एआईटीए ने पुरुष युगल में नागल के साथ बोपन्ना की जोड़ी बना दी.

रिएक्शन

रोहन बोपन्ना : आईटीएफ ने सुमित नागल और मेरे लिए जोड़ी को स्वीकार नहीं किया. आईटीएफ स्पष्ट था कि नामांकन की समय सीमा (22 जून) के बाद चोट/बीमारी के बिना किसी भी बदलाव की मंजूरी नहीं थी. एआईटीए ने प्लेयर्स, सरकार, मीडिया और बाकी सभी को ये बोलकर गुमराह किया है कि हमारे पास अभी भी मौका है.

अनिल धूपर, महासचिव, एआईटीएफ- सच तो ये है कि बोपन्ना की रैंकिंग क्वालिफिकेशन के लिहाज से अच्छी नहीं थी. हमने सिर्फ उनकी मदद करने की कोशिश की ताकि वो खेलों में प्रतिस्पर्धा कर सके. उन्होंने अपने दम पर क्वालिफाई क्यों नहीं किया?

सानिया मिर्जा, बोपन्ना के ट्वीट पर दी प्रतिक्रिया- क्या ??? अगर ये सच है तो ये हास्यास्पद और शर्मनाक है इसका मतलब ये भी है कि हमने मिश्रित युगल में पदक के एक अच्छे अवसर को गंवा दिया. अगर आप और मैं योजना के मुताबिक, खेलते तो अवसर हो सकता था.


Share This News