Breaking News
Home / मनोरंजन / बाल फिल्मोत्सव से किशोरों व युवाओं को मिलेगी जीवन मूल्यों की शिक्षा : बृजेश पाठक
1

बाल फिल्मोत्सव से किशोरों व युवाओं को मिलेगी जीवन मूल्यों की शिक्षा : बृजेश पाठक

1लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के फिल्म्स डिवीजन के तत्वावधान में विश्व का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव (आई.सी.एफ.एफ.-2019) गुरुवार से सीएमएस कानपुर रोड ऑडिटोरियम में प्रारम्भ हो गया। मुख्य अतिथि बृजेश पाठक (विधायी, न्याय एवं राजनीतिक पेंशन मंत्री, उ.प्र.) ने दीप प्रज्वलित कर बाल फिल्मोत्सव का विधिवत् उद्घाटन किया जबकि प्रख्यात फिल्म अभिनेता बोमन ईरानी, फिल्म कलाकार गौरव गर्ग, विकास श्रीवास्तव, व रोशनी वालिया एवं बाल कलाकार आरव शुक्ला की उपस्थिति ने समारोह की गरिमा में चार-चाँद लगा दिये, साथ ही विभिन्न विद्यालयों से पधारे लगभग 10,000 छात्रों एवं विशिष्ट व अति-विशिष्ट अतिथियों की गरिमापूर्ण उपस्थिति ने इस आयोजन की सार्थकता सिद्ध कर दी।  बाल  फिल्मोत्सव का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि बृजेश पाठक ने कहा कि शिक्षात्मक बाल फिल्मों को निःशुल्क प्रदर्शित करना किशोरों व युवाओं को जीवन मूल्यों की शिक्षा देने का कारगर तरीका है।
2बच्चे बचपन में जो देखते हैं वही बड़े होकर बन जाते हैं। इस फिल्म महोत्सव में बच्चों के अच्छी-अच्छी बाल फिल्में दिखाई जा रही है, जिससे बच्चों में नैतिकता का विकास होगा। सीएमएस प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी ने आमन्त्रित अतिथियों, फिल्म कलाकारों व विभिन्न विद्यालयों से पधारे छात्रों का हार्दिक स्वागत करते हुए कहा कि मनुष्य का स्वभाव, संवेदनाएं, भय एवं भावनाएं आदि सारे विश्व में लगभग एक जैसी ही होती हैं। अतः विभिन्न देशों की शिक्षात्मक बाल फिल्में बच्चों को मनुष्य की संवेदनाओं से जोड़ती हैं और उन्हें अच्छा इंसान बनाती हैं। उद्घाटन समारोह के उपरान्त अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव का शुभारम्भ बाल फिल्मोत्सव का शुभारम्भ नितिन चौधरी एवं के. के. मकवाना द्वारा निर्देशित भारत फिल्म ‘आई एम बन्नी’ से हुआ।
अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव का भव्य उद्घाटन
यह फिल्म एक किशोर बालिका के संघर्ष व साहस को दर्शाती है जो स्वयं भी पढ़ना चाहती है, साथ ही अपने गांव की अन्य बालिकाओं के साथ ही गाँव वालों भी बालिकाओं की शिक्षा हेतु प्रेरित करती है। इस अवसर पर आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेन्स में लखनऊ पधारे विशिष्ट अतिथियों ने इस ऐतिहासिक आयोजन पर अपने विचार व्यक्त किये। पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रख्यात फिल्म अभिनेता बोमन ईरानी ने कहा कि बच्चों के चारित्रिक व नैतिक विकास के लिए फिल्म जैसे सशक्त माध्यम का उपयोग सी.एम.एस. की एक अनूठी पहल है। देश का भविष्य इन बच्चों के हाथ में ही है और मैं चाहता हूँ कि बच्चे बच्चों के लिए बनी फिल्में ही देंखें।
इस अवसर पर सीएमएस संस्थापक डा. जगदीश गाँधी ने बताया कि विश्व एकता व विश्व शान्ति को समर्पित इस नौ-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव की गरिमा बढ़ाने हेतु प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्रीगणों, प्रशासनिक अधिकारियों, फिल्म जगत की प्रख्यात हस्तियों एवं बाल कलाकारों का आगमन हो रहा है। फिल्म फेस्टिवल के डायरेक्टर वर्गीस कुरियन ने कहा कि सी.एम.एस. देश का पहला स्कूल है जो इस तरह का फिल्म फेस्टिवल आयोजित करता है, जिसमें खास तौर से बच्चों के लिए बनाई गई चारित्रिक गुणों से परिपूर्ण बाल फिल्में  निःशुल्क प्रदर्शित की जाती हैं। श्री कुरियन ने बताया कि इस अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में अनेक देशों की बेहतरीन फिल्मों का निःशुल्क प्रदर्शन तो होगा ही, साथ ही साथ देश-विदेश की सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्मों को विभिन्न कैटेगरियों के अन्तर्गत सी.एम.एस. की ओर से 10 लाख रूपये के नकद पुरस्कारों से सम्मानित किया जायेगा।

Check Also

rajeev gandhi

राजीव गांधी की पुण्यतिथि को कल बलिदान दिवस के रूप में मनायेगी कांग्रेस

लखनऊ। भारत रत्न-पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की पुण्यतिथि ‘बलिदान दिवस’ पर कल 21 मईको …

2

मैक्स लिटिल आइकन : लक्षित, इनाया, तान्या, वंश, शिवांश, तेजस, रिधिमा और पंखुड़ी बने चैंपियन

देश के अग्रणी फ़ैशन ब्रांड मैक्स फ़ैशन के लिटिल आइकन के फिनाले का भव्य शो …

65

अब वॉकरू का जूता बेचेंगे आमिर खान 

लखनऊ। वीकेसी ग्रुप ने दुनिया के सबसे बड़े सुपरस्‍टार में से एक आमिर खान को अपना …

vishal

सेवा मिशन आगे बढ़ाने के लिए फूड मैन विशाल सिंह को गोयल मोटर्स ने दिया 21000 रुपए का चेक

लखनऊ: गोयल मोटर्स रिंग रोड लखनऊ द्वारा बुधवार को हीरो मोटर्स डीलरशिप पर गाड़ी खरीदने …

IMG_9689

उर्दू, अरबी-फारसी विश्वविद्यालय में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए दिए टिप्स

लखनऊ: ख़्वाजा मुईनुददीन चिश्ती उर्दू, अरबी-फारसी विश्वविद्यालय, लखनऊ में बुधवार को एक व्याख्यान का आयोजन …

pix

धरती से तमाम जीव जंतु गायब हो रहे, सवाल ये है कि आखिर सब जा कहां रहे

लखनऊ: मातृ दिवस के शुभअवसर पर साहित्यिक व सामाजिक संस्था काव्य क्षेत्रे के तत्वावधान में …