July 24, 2021

चीनी वैज्ञानिकों ने तलाशे 24 प्रकार के कोरोना वायरस, एक कोविड-19 का करीबी

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

Share This News

कोरोना वायरस के चीन की लैब से लीक होने के मामले को लेकर निशाने पर चल रहे चीन के  रिसर्चरों की एक नयी रिसर्च के सामने आने से पूरी दुनिया के हालात ख़राब हो सकते है. दरअसल चीनी रिसर्चरों के  अनुसार उन्होंने  चमगादड़ों में वर्तमान  कोविड-19 से काफी मिलते जुलते नये प्रकार के कोरोना वायरस को खोज की है.

एक वायरस का नमूना कोविड-19 जैसा होने से उड़े होश

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

इसी के साथ  रिसर्चरों ने ये भी दावा किया कि उन्होंने अब तक 24 प्रकार के कोरोना वायरस तलाशे है. रिसर्चरों के अनुसार चमगादड़ से इंसानों में संक्रमण फ़ैल सकता हैं. शानडोंग यूनिवर्सिटी के रिसर्चरों की रिपोर्ट Cell नाम के जनरल में  भी प्रकाशित हुई है.

कोविड-19 की उत्पत्ति की नए सिरे से जांच के बीच चीनी रिसर्चरों ने रिसर्च में पता लगाया कि चमगादड़ में मिले नए वायरस में एक ऐसा वायरस भी है, जो आनुवंशिक रूप से कोविड-19 का दूसरा सबसे करीबी हो सकता है.

कोरोना वायरस में चीन की रिवर्स इंजीनियरिंग के मिले सबूत, किसने नहीं माना 

रिपोर्ट के अनुसार शेडोंग विश्वविद्यालय के चीनी रिसर्चरों ने बोला कि कुल कई प्रकार के चमगादड़ प्रजातियों में से 24 नए कोरोना वायरस तलाशे है जिनमें चार SARS-CoV-2 जैसे कोरोना वायरस भी हैं.   इसके लिए सैम्पल मई 2019 से नवम्बर 2020 के बीच जंगलों में रहने वाले चमगादड़ों से कलेक्ट हुए हैं.

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

चीनी रिसर्चरों ने  ये नमूने मई 2019 और नवंबर 2020 के बीच जंगल में रहने वाले छोटे चमगादड़ों से लिए थे. उन्होंने चमगदड़ों के मुंह से नमूने लेने के साथ उनके मल-मूत्र की भी जांच की थी. रिसर्चरों के अनुसार दक्षिण-पश्चिमी चीन में पता की गयी रिसर्च के अनुसार ये पता किया है कि चमगादड़ों में कितने प्रकार के कोरोना वायरस मिले हैं और इसमें कितने लोगों में फैलने की क्षमता हैं.

तीन माह में पता लगाये, कैसे हुई कोरोना संक्रमण की शुरुआत : बाइडन

रिसर्चरों के अनुसार हाल में मिले एक सैम्पल में वायरस का  स्ट्रक्चर वैसा ही है और  कोविड-19 से काफी मिलता-जुलता है. इससे कोविड-19 की तरह से ही दुनिया में काफी बड़ी  महामारी  फ़ैल  सकती है.

रिसर्चरों के अनुसार यह स्पाइक प्रोटीन पर आनुवंशिक अंतर के अलावा SARS-CoV-2 का सबसे करीबी हो सकता है. रिसर्चरों के अनुसार जून 2020 में थाईलैंड से लिए  SARS-CoV-2 संबंधित वायरस के साथ, ये परिणाम स्पष्ट रूप से दर्शाते  हैं कि SARS-CoV-2 से निकटता से संबंधित वायरस चमगादड़ों की आबादी में फ्रैलते है.


Share This News