July 25, 2021

कोरोना का लैम्बडा वेरिएंट बढ़ा रहा चिंता, चीनी वैक्सीन भी है बेकार 

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

नई दिल्ली. चीन से निकले कोरोना वायरस के चलते पूरी दुनिया का बुरा हाल है और रोज ,मिल रहे नए-नए वेरिएंट परेशानी बढ़ा रहे है. वही एक्सपर्ट्स और साइंटिस्ट की निगाह में नए वेरिएंट बड़ी चुनौती की तरह हैं. इसे ऐसे समझ ले कि पहले डेल्टा, फिर डेल्टा प्लस के बाद अब मिले लैम्बडा वेरिएंट को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने ‘वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट’ में जोड़ा है.

डब्लूएचओ ने एक दिन पहले कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए बोला कि C.37 के रूप में जाना जाने वाले लैम्बडा वेरिएंट का सबसे पहले दिसंबर 2020 में मिला था. वही मीडिया रिपोर्ट्स में पेरू में हुई एक स्टडी ने भी चिंता बढ़ा दी है कि ये वेरिएंट कुछ वैक्सीन को भी चकमा दे सकता है.

पेरू में दिसंबर 2020 में मिला था लैम्ब्डा वेरिएंट का पहला केस

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

जानकारी के अनुसार SARS-CoV-2 के लैम्ब्डा वेरिएंट का पहला केस पेरू में दिसंबर 2020 में मिला था जिसे डब्ल्युएचओ ने 14 जून ‘वेरिएंट और इंटरेस्ट’ में शामिल किया था. दरअसल एक रिपोर्ट के मुताबिक हर 200 केस में से एक मरीज इस वेरिएंट से संक्रमित होता है. वही दक्षिण अमेरिकी देश में यह आंकड़ा अब बढ़कर 80 फीसदी हो गया है.

ये भी पढ़े :  पीएम मोदी की कैबिनेट का विस्तार : 43 मंत्रियों को शपथ, 15 कैबिनेट व 28 राज्यमंत्री 

ये भी पढ़े : अल्फा और डेल्टा वेरिएंट्स के खिलाफ भी कोवैक्सीन : एनआईएच अमेरिका

वही पेरू में सबसे अधिक मृत्यु दर भी है, लेकिन इसका सबूत नहीं मिला है कि लैम्ब्डा के चलते देश में संक्रमण और मौत के केस बढ़े हैं.
मीडिया रिपोर्ट्स में पेरू में हुई एक स्टडी के हवाले से  जिक्र है कि ये वेरिएंट वैक्सीन से भी बच सकता है. शुरुआती स्टडी के अनुसार चीन में तैयार वैक्सीन कोरोवैक से बनी एंटीबॉडीज लैम्ब्डा वेरिएंट को आसानी से मात दे सकती है और इस स्टडी की समीक्षा होनी है.

भारत में अभी नहीं है कोई केस

बताते चले कि एक समाचार एजेंसी के सूत्रों के अनुसार कोरोना वायरस के लैम्ब्डा वेरिएंट का कोई केस भारत में नहीं मिला है. रिपोर्ट्स के अनुसार लगभग 31 देशों में लैम्ब्डा वेरिएंट के केस मिले हैं. वही ब्रिटेन में पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने लैम्बडा को 23 जून को ‘वेरिएंट अंडर इन्वेस्टिगेशन’ में जोड़ा था.


Share This News