July 25, 2021

क्रेडाई की पहली रिपोर्ट : 95 प्रतिशत डेवलपर्स को लग रहा परियोजना में देरी का डर

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

Share This News

कन्‍फेडरेशन ऑफ रियल एस्‍टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने 24 मई से 3 जून, 2021 के बीच पूरे भारत में रियल एस्‍टेट सेक्‍टर पर कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रभाव का आकलन करने के लिए उत्‍तर, पूर्व, पश्चिम और दक्षिण क्षेत्र में पहली बार उद्योग सर्वेक्षण से प्राप्‍त परिणामों को जारी किया.

उद्योग की रिकवरी के लिए तुरंत राहत की मांग

स्‍टार्टीफाइड सैंपलिंग मेथड के साथ आयोजित खोजपूर्ण सर्वेक्षण में 217 शहरों के 4,813 डेवलपर्स की अपनी तरह की पहली भागीदारी देखने को मिली, जो उद्योग की भावना और रियल एस्‍टेट क्षेत्र के सामने आने वाली चुनौतियों की श्रृंखला पर महत्‍वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करता है.

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

सर्वेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक, 95 प्रतिशत से अधिक डेवलपर्स का कहना है कि यदि सरकार और आरबीआई द्वारा क्षेत्र के लिए कोई तत्‍काल राहत उपाय नहीं किए जाते हैं तो अपरिहार्य परियोजना में विलंब हो सकता है. इस देरी के लिए कई कारकों को जिम्‍मेदार ठहराया गया है, 92 प्रतिशत डेवलपर्स को निर्माण स्‍थल पर श्रमिकों की कमी का सामना करना पड़ रहा है.

83 प्रतिशत डेवलपर्स आधे से भी कम कार्यबल के साथ काम कर रहे हैं, और 82 प्रतिशत से अधिक डेवलपर्स परियोजना मंजूरी में देरी का सामना कर रहे हैं. अध्‍ययन के परिणामों पर टिप्‍पणी करते हुए हर्ष वर्धन पटोदिया (अध्‍यक्ष, क्रे‍डाई नेशनल) ने कहा कि रियल एस्‍टेट क्षेत्र ने थोड़े राहत उपायों के बावजूद, पहली लहर के बाद सतर्क रिकवरी के पथ पर वापस लौटने में जबरदस्‍त लचीलापन दिखाया है.

हालांकि दूसरी लहर ने हमें उद्योग के विकास पथ को प्रतिबिंबित करने और पुनर्मूल्‍यांकन करने के लिए प्रेरित किया है, और हमें लगा कि हाल के घटनाक्रमों के आलोक में ग्राहकों और उद्योग भागीदारों के सामने आने वाली चुनौतियों का आकलन करना महत्‍वपूर्ण है. निष्‍कर्ष बताते हैं कि दूसरी लहर का पहली लहर की तुलना में रियल एस्‍टेट क्षेत्र पर अधिक घातक प्रभाव पड़ा है.

होम आइसोलेशन में ऑक्सीजन सप्लाई, क्रेडाई ने बनाया ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर बैंक

स्‍टील, सीमेंट आदि सहित निर्माण सामग्री में हालिया तेजी जैसे अतिरिक्‍त कारकों ने 88 प्रतिशत से अधिक डेवलपर्स के लिए निर्माण लागत में 10 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि का योगदान दिया है. विभिन्‍न वित्‍तीय बाधाएं और तरलता की कमी समस्‍या को और बढ़ा रही है, 77 प्रतिशत डेवलपर्स को मौजूदा ऋण की सर्विसिंग में समस्‍याओं का सामना करना पड़ रहा है.

85 प्रतिशत डेवलपर्स को नियोजित संग्रह में व्‍यवधान का सामना करना पड़ रहा है, और 69 प्रतिशत ग्राहक होम लोन के वितरण में समस्‍याओं का सामना कर रहे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर्स के शीर्ष निकाय द्वारा किए गए सर्वेक्षण के निष्‍कर्षों ने उपभोक्‍ता व्‍यवहार में बदलाव पर भी प्रकाश डाला है, जिसके परिणामस्‍वरूप पूछताछ और साइट के दौरे में कमी के कारण मांग में कमी आई है.

98 प्रतिशत डेवलपर्स कम ग्राहक पूछताछ का सामना कर रहे हैं और 42 प्रतिशत डेवलपर्स ग्राहक पूछताछ में 75 प्रतिशत की गिरावट का अनुभव कर रहे हैं.  इसके अलावा, रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि दूसरी लहर की वजह से 95 प्रतिशत ग्राहकों ने अपनी खरीद निर्णय को स्‍थगित कर दिया.


Share This News