July 23, 2021

कोरोना काल में साइकिल चलाने से मिलेगी फिटनेस को डोज 

आनंद किशोर पांडेय

आनंद किशोर पांडेय

Share This News

लखनऊ : कोरोना काल की दूसरी लहर ने हम सभी को  बता दिया  की फिटनेस कितनी महत्पूर्ण है क्योंकि अगर देखा जाये तो कोरोना की मार तब ज्यादा पड़ी है जबकि वह कोरोना के साथ अन्य बीमारियों से भी घिरे थे जिसमें मुख्यतः मधुमेह, हृदय संबंधित बीमारियाँ व मोटापा आदि मुख्य थी.

साइकिल चलाने से टेंशन के साथ ड‍िप्रेशन की होगी छुट्टी

आनंद किशोर पांडेय

इस बारे में पैडलयात्री साइकिलिंग एसोसिएशन के सचिव एवं मशहूर साइकिलिस्ट आनंद किशोर पांडेय ने कहा कि साइकिल चलाकर हम पर्यावरण को सुरक्षित रख सकते हैं, बल्कि कई गंभीर बीमारी से भी लड़ सकते हैं. अब इम्यून सिस्टम अच्छा होने से कोरोना की बीमारी का खतरा भी कम होता है. साइकिलिंग से शरीर का हीमोग्लोबिन भी बढ़ता है.

साइकिल चलाने वाले पुरुषों में हीमोग्लोबिन की मात्रा 14 से 17 ग्राम प्रति 100 मिलीलीटर खून महिलाओं में 13 से 15 ग्राम प्रति 100 मिलीलीटर खून होता है.’ साइकिलिंग में थोड़ी दूरी बनाकर रखते हैं, तो इससे सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन होता है.’  वैसे हेल्‍दी रहने के लिए साइकिल चलाना बेहतरीन जरिया है. यह आपके वजन को कंट्रोल में रखने के साथ ही डिप्रेशन, टेंशन और चिंता को भी कम करता है.

इम्यून सिस्टम अच्छा होने से बीमारी का खतरा होगा कम

आनंद किशोर पांडेय
आनंद किशोर पांडेय

आनंद किशोर पांडेय के अनुसार साइकिलिंग एक एरोबिक एक्‍सरसाइज है, जिसके कई फायदे हैं. साइकिल चलाने से स्वास्थ्य संबंधी सभी फायदे मिलते हैं. इससे घुटनों के जोड़ों और आपके पैरों का पूरा व्यायाम होता है. दौड़ने की तुलना में सााइकिल चलाने से आपके घुटनों पर बहुत कम दबाव पड़ता है और पैर की मांसपेशियों का व्यायाम होता है.

वैसे ‘लॉकडाउन में कोविड मरीजों को छोड़ दें, तो नॉन-कोविड मरीजों की संख्या गिरने लगी है. इसका मुख्य कारण, आप घर पर खाना खा रहे हैं, पॉल्यूशन से दूर हैं, स्ट्रेस से दूर हैं, कहीं आने-जाने को लेकर चिंता नहीं है. ट्रैफिक में नहीं फसे हैं तो सारा लाइफस्टाइल का रोल है. दवाइयों का आपकी जिंदगी में 10 फीसदी हिस्सा है.

असल तो आपकी जिंदगी है कि आप उसे कैसे जी रहे हैं साइकिलिंग खेल को सभी को अपने जीवन का हिस्सा बनना चाहिए. ज्यादा न सही एक्सरसाइज के तौर पर ही कुछ समय साइकिलिंग करने से ब्लड सेल्स और स्किन में ऑक्सीजन की पर्याप्त पूर्ति होने से आपकी त्वचा ज्यादा अच्छी और चमकदार रहती है, यानि कि हम उम्र लोगों से आप अधिक यंग दिखाई देंगे.

आनंद किशोर पांडेय
आनंद किशोर पांडेय

अगर आप सुबह सुबह कुछ देर तक साइकिलिंग करतें हैं, तो रात को आपको बेहतरीन नींद आएगी, यानि नीदं न आने की प्राब्लम पूरी तरह से खत्म हो जाएगी. साइकिलिंग करने वाले की मेमोरी यानि ब्रेन पावर ऐसा न करने वाले की तुलना में 15 परसेंट ज्यादा होता है. साइकिल चलाने से आपका दिल मजबूत होता है, साथ ही इससे आपकी बॉडी में नई ब्रेन सेल्स भी बनती रहती हैं.

कोरोना काल में  रेस्ट (REST) थेरपी से ऐसे बनाये पॉजिटिव सोच

यूपी ओलंपिक एसोसिएशन ने मांगी कोविड काल में प्रभावित खिलाड़ियों की सूची

यानि कि अब हम कह सकते हैं कि ‘साइकिल चलाओ मेमोरी बढ़ाओ’. जिन लोगों को समोसे, कचौरी, कोल्डड्रिंक या दूसरे हाई कैलोरी स्नैक्स खाना बहुत पसंद है, लेकिन इन्हें खाने से मिली एक्स्ट्रा कैलोरी को गलाना है उनके लिए मुश्किल. ऐसे में साइकिलिंग करके आप कंज्यूम की हुई एक्स्ट्रा कैलोरी को बड़े आराम से बर्न कर सकते हैं.

बताते चले कि संयुक्त राष्ट्र महासभा की घोषणा के अनुसार प्रत्येक वर्ष  साइकिल की विशेषता और बहुमुखी प्रतिभा को पहचानने के लिए 3 जून को अंतर्राष्ट्रीय विश्व साइकिल दिवस (World Cycle Day) मनाया जाता है.


Share This News