July 25, 2021

कोविड से बचाव या इलाज के दौरान न ले बहुत अधिक गर्म भाप 

Share This News

लखनऊ : रविवार को लालजी टंडन फाउंडेशन के तहत पोस्ट कोविड मैनेजमेंट एवं ब्लैक फंगस संक्रमण पर मेडिकल वेबिनार का आयोजन हुआ. इस वेबिनार में नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन गोपाल की उपस्थिति में फ़ाउण्डेशन द्वारा  पर चिकित्सीय परिचर्चा हुई.

इसमें डॉ. एमएल भट्ट (पूर्व कुलपति केजीएमयू) एवं डॉ डी हिमांशु (संक्रामक रोग विशेषज्ञ, मेडिकल सुप्रीटेंडेंट, केजीएमयू) ने बचाव व एहतियात को लेकर प्रतिभागियों को महत्वपूर्ण तथ्य बताए. इस वेबिनार के अंत मे फाउंडेशन के सचिव स्व प्रदीप भार्गव को भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित की गई, जिनका हाल ही में कोरोना के कारण निधन हो गया था.

पोस्ट कोविड मैनेजमेंट एवं ब्लैक फंगस संक्रमण विषय पर मेडिकल वेबिनार आयोजित

इस अवसर पर बोलते हुए लालजी टंडन फाउंडेशन के अध्यक्ष व नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने इस मेडिकल वेबिनार को बेहद सार्थक बताया. उन्होंने कहा कि कोविड से उबरने वाले मरीजों के सामने कन्फ्यूजन की स्थिति है और हाल ही में फैले ब्लैक फंगस के संक्रमण के चलते बेहद विकट स्थिति उतपन्न हो गई है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व  कोरोना की द्वितीय लहर को काबू करने में बड़ी सफ़लता मिली है.

उन्होंने डॉक्टरों और मेडिकल फील्ड से जुड़े फ्रंटलाइन कोरोना योद्धाओं का धन्यवाद दिया और  विश्वास दिलाया कि फाउंडेशन अपने जनहित के कार्यों को निर्बाध गति से करता रहेगा. डॉक्टर्स द्वारा बताया गया कि कोविड से बचाव या इलाज के दौरान बहुत अधिक  गर्म भाप ना लें. स्टीम चला कर बंद कर दे फिर भाप ले, भाप का पानी रोज बदले जरूर नहीं तो नमी से फंगस स्टीमर में भी बन सकती है.

डॉक्टरों ने मास्क के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि कपड़े का मास्क यदि पहन रहे तो प्रतिदिन उपयोग करने के बाद धो ले, ज्यादा पुराना होने पर नस्ट कर दें. एन95 मास्क के ऊपर कपड़े का मास्क अवश्य पहनें. इम्यूनिटी  बढ़ाने के लिए बताते हुए डॉक्टरों ने प्रतिदिन व्यायाम, योगा व पैदल टहलने की सलाह दी.

वैक्सीनेशन से पहले रक्तदान कर विनम्र गर्ग ने दिया ये संदेश

उन्होंने बताया कि इम्यूनिटी ज्यादा बढ़ाने के लिए कई लोगों बहुत ज्यादा दवाई ले रहे हैं या स्टेरॉइड्स ले रहे हैं, जिसके कारण भी ब्लैक फंगस का संक्रमण हुआ। कुछ दवाइयां शुगर बढ़ाती है, उनको लेना भी फंगस का कारण बना. वेबिनार के दौरान यह भी बताया गया कि मरीज 10 से 15 दिन बेड पर पड़े रहें और  कोई मूवमेंट न होने के चलते भी शरीर में रक्त के थक्के बनने लगते हैं.

बाथरूम जाते समय यदि सांस फूलती है तो सचेत हो जाएं और तुरन्त डॉक्टर से मिले क्योंकि बुखार बहुत तेज आने से फेफड़े भी संक्रमित हो सकते हैं. कोरोना से उबरने के पश्चात रोगियों को शीघ्र रिकवरी के लिए प्रतिदिन ढाई से 3 लीटर पानी पीने व सुपाच्य भोजन करने की सलाह दी गई और शीघ्र रिकवरी के लिए प्रतिदिन ढाई से 3 लीटर पानी पीने व सुपाच्य भोजन करने की सलाह दी गई.


Share This News