July 24, 2021

Fixing- 2013 : एक और खिलाड़ी का कम हुआ आजीवन बैन

Share This News

बीसीसीआई द्वारा 2013 आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में तीन खिलाड़ियों एस श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंडिला पर आजीवन बैन लगा था. इसमें श्रीसंत सजा कम होने के बाद मैदान में लौट चुके है.

स बीच अंकित चव्हाण ने कहा कि बीसीसीआई के लोकपाल डीके जैन ने भी उसकी सजा को घटाकर 7 साल कर दिया है लेकिन बीसीसीआई ने उन्हें अब तक आधिकारिक लेटर नहीं दिया है.

इस बारे में 35 साल के अंकित चव्हाण ने क्रिकबज से बात करते हुए कहा कि, मैंने मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन से इस मसले पर सपोर्ट करने को कहा है. लोकपाल ने एक महीने पहले 3 मई को ये फैसला सुनाया. ऐसे में मेरे पर लगा बैन सितंबर 2020 में खत्म हो गया है.

उन्होंने कहा कि मैंने लोकपाल के आदेश के साथ बीसीसीआई को लेटर लिखा था लेकिन अब तक कोई जवाब नहीं मिला है. इस कारण मैंने एमसीए से मदद मांगी है, ताकी फिर से मैदान पर लौट सकूं. मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन की अपेक्स काउंसिल की मीटिंग 11 जून को होगी और मीटिंग के एजेंडे में अंकित चव्हाण का मामला भी है.

आईपीएल के नॉकआउट मुकाबलों में हो सकते है ये बदलाव

एसोसिएशन के सूत्र के मुताबिक अंकित के पत्र की वजह से ये एजेंडा में शामिल है लेकिन हम कुछ नहीं कर सकते, ये हमारे अधिकार क्षेत्र के बाहर है और ये फैसला बीसीसीआई को ही करना है. गौरतलब है कि बीसीसीआई ने तेज गेंदबाज एस श्रीसंत पर भी आजीवन बैन लगाया था और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उनकी सजा को कम हुई थी.

श्रीसंत 2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वनडे वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम में थे. वो इस सीजन में मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए केरल की टीम में जगह मिली थी लेकिन कोरोना के चलते रणजी ट्रॉफी नहीं हुई.


Share This News