July 28, 2021

कोरोना काल में घर में स्किल तलाशने के लिए यूट्यूब से टिप्स ले रहे हॉकी खिलाड़ी

Share This News

लखनऊ।  कोरोना काल व लॉकडॉउन में खेल और  खिलाड़ियों को काफी नुकसान के बाद खेल मैदानों पर ताला लग गया. इसी बीच प्रतापगढ़ में हॉकी की नर्सरी अनवर हॉकी सोसाइटी के खिलाड़ियों ने लम्बे कोरोनाकाल में खुद को घर पर सुरक्षित रखने के साथ हॉकी के अभ्यास के साथ अपनी स्किल को  तराशा और सोशल मीडिया पर धूम मचा दी.

प्रतापगढ़ की अनवर हॉकी सोसाइटी के प्लेयर्स ने मचाई धूम

यहाँ छोटे-छोटे बच्चों ने सोसाइटी के संस्थापक मोहम्मद अनवर, कोच मोहम्मद जसीम और मोहम्मद खुर्शीद से ऑनलाइन हॉकी के गुर सीखे थे. इनमे सोसाइटी के मोहम्मद दानिश ने घर पर स्किल प्रैक्टिस की और विदेशी प्लेयर्स को यूट्यूब पर  देखकर टिप्स ली. दानिश के अनुसार आस्ट्रेलिया व नीदरलैण्ड के खिलाडिय़ों को देखकर भी स्किल सीखने का मौका मिला है.

ये छोटी उम्र का खिलाड़ी आने वाले समय में पुलिस अधिकारी बनकर मां- बाप का सपना पूरा करने की ललक रखता है. प्रतापगढ़ की अनवर हॉकी सोसाइटी में 120 से अधिक बच्चे नि:शुल्क अभ्यास करते हैं.  इन बच्चों को सोसाइटी के संस्थापक व अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी खेल की पूरी किट नि:शुल्क देते हैं.

मोहम्मद अनवर का कहना है कि कोरोना काल में मैदान पर ताला लगने के चलते सोसाइटी के जिम्मेदार लोगों ने एक वाट्सएप ग्रुप बनाकर बच्चों को घर पर ही तराशने का जिम्मा संभाला. वहीं बच्चों और उनके अभिभावकों ने भी ऑनलाइन अभ्यास में साथ दिया.

इनमे मोहम्मद दानिश, हुजैफा और अदनान की बात करें तो ये उदीयमान खिलाड़ी हॉकी स्किल में फर्स्ट टच, लीडि़ंग, पासिंग, हिट, फ्लैट स्टिक टैकल, फ्लोर स्टिक टैकल, बोनस टिप, रिजर्व, वी ड्रैग, स्कूप, टैकलिंग, बैक पास व बॉल कन्ट्रोल का  कड़ा अभ्यास किया.  दानिश के अनुसार उन्होंने दो साल पहले हॉकी खेलना शुरू किया जिसमे करीब 18 महीने कोरोना काल में टल गए.

लाठी चलाने की प्राचीन कला को पुराना गौरव दिलाने की शरू हुई कोशिश 

दिनचर्या में साइकिलिंग को अवश्य करें शामिल, बीमारी भागेंगी दूर

मगर घर पर रहकर कोच ने उम्दा प्रशिक्षण देकर हम खिलाडिय़ों के हौसले को बरकरार रखा. दानिश, हुजैफ व अदनान जैसे सोसाइटी के अनेक बच्चों का सपना है कि वे एक दिन देश की टीम में जरूर शामिल होंगे. बताते चले कि सालों से लोग यही मानते आ रहे हैं कि अनवर हॉकी की नर्सरी है. हॉकी यहां की अंडर करंट है.

इस करंट को महसूस करना है तो हर किसी को प्रतापगढ़ की अनवर हॉकी नर्सरी आना होगा. जीआईसी मैदान पर चलने वाली अनवर हॉकी नर्सरी के छोटे-छोटे खिलाड़ी मैदान में अपने हॉकी स्टिक से सफेद बॉल का पीछा करते नजर आते थे. वैसे इन बच्चों का  जुनून और जज्बा देखने के लिए मैदान खुलने का इंतजार करना होगा.

वैसे प्रतापगढ़ जैसे छोटे से शहर में  बच्चे जैसे हॉकी में डूबे रहते है और कुछ लोग तो इसे अनवर हॉकी सोसाइटी की जगह हॉकी की बगिया कहते है.


Share This News