July 29, 2021

महाराष्ट्र से लेकर गुजरात तक चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ का कहर

फोटो सोशल मीडिया

फोटो सोशल मीडिया

Share This News

समुद्री तूफान ‘तौकते’ के कहर से  महाराष्ट्र से लेकर गुजरात  तक कांप उठा और सोमवार को मुंबई में  बारिश  के नए रिकार्ड बने तो मंगलवार को भी बुरा हाल रहा. इस चक्रवाती तूफान से मुंबई में कई नुकसान की खबर है. अरब सागर से उठे तूफान के चलते 200 एमएम बारिश हुई. इससे  21 साल पहले 2000 में 24 घंटे में 190 एमएम बारिश हुई थी.

मुंबई में 200 एमएम रिकॉर्ड  बारिश,  21 साल पहले 2000 में 24 घंटे में हुई थी 190 एमएम बारिश

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

दूसरी ओर बॉम्बे हाई के पास एक जहाज भी डूब गया. इस जहाज पर सवार 200 से  ज्यादा लोगों में से 170 लोग ढ़ूढ  लिए गए है, जबकि  रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है.  जानकारी के अनुसार कुल दो बड़ी नावों में फंसे 410 लोगों में से 132 बचा लिए गए  है. सोमवार को नौसेना ने इन लोगों को बचाने का अभियान शुरू किया था जिसमे नौसेना के जहाज आइएनएस कोच्चि और आइएनएस कोलकाता लगाया गए हैं.

दो बड़ी नावों में फंसे 410 लोगों को  बचाने के लिए नौसेना का अभियान

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

दूसरी ओर चक्रवाती तूफान तौकते के सौराष्ट्र की ओर बढ़ने की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वहां कई जिलों की 84 तहसीलों में भारी बारिश हो रही है जबकि रेस्क्यू टीमें आपात स्थिति के लिए अलर्ट पर हैं.

मुंबई में जगह-जगह पेड़ और बिजली खंभे गिरने से  घरों को भी हुआ नुकसान

मुंबई में सोमवार को तूफान के चलते 12 लोगों की मौत  हुई तो 17 लोग जख्मी हुए और जगह-जगह पेड़ और बिजली खंभे गिहने से  घरों को भी नुकसान हुआ और मुंबई से तूफान गुजरात को मुड़ गया और वहां से पहले ही लगभग 1500 लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाये गए.

वैसे गुजरात में चक्रवाती तूफान तौकते के चलते चार लोगों की जान चली गई और राज्य के पश्चिमी तट पर भारी तबाही हुई.  वही गंभीर हालत के चलते मंगलवार सुबह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने तीन राज्यों के सीएम से बात में आश्वासन दिया कि उन्हें केंद्र से हर संभव मदद मिलेगी.

गुजरात तट से टकराने के बाद कमजोर  पड़ा तूफान

इस बारे में मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार चक्रवात सोमवार मध्यरात्रि में सौराष्ट्र  के दीव और ऊना के बीच गुजरात तट से टकराने के बाद कमजोर  पड़ा और गुजरात तट से ‘अत्यंत तीव्र चक्रवाती तूफान’  के रूप में गुजरने के बाद कमजोर हो गया.

आईएमडी के अनुसार अमरेली के पास सौराष्ट्र क्षेत्र में सौराष्ट्र क्षेत्र में मंगलवार सुबह काफी गंभीर  हालत था और चक्रवात के कमजोर पडऩे से काफी तबाही हुई और भावनगर, राजकोट, पाटण और वलसाड में एक-एक व्यक्ति की जान तूफान के दौरान  हादसों में गई.

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

विभाग ने सुबह के बुलेटिन में बोला कि चक्रवात  अमरेली से 10 किमी दक्षिण में और दीव से लगभग 95 किमी उत्तर-उत्तर-पूर्व में स्थित होने के कारण हवा की रफ्तार 150 से 175 किमी प्रति घंटे से कम हो गई और हवा 135 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने लगी.

तूफान के असर से यूपी में भी कई जगह हल्की बारिश भी हुई. इस बारे में आंचलिक मौसम केंद्र लखनऊ के निदेशक जेपी गुप्ता ने बोला था कि इस चक्रवाती तूफान ‘तौकते’  से  यूपी सहित कई उत्तरी राज्यों पर असर पड़ेगा. मौसम विभाग के अनुसार तूफान के साथ पश्चिमी विक्षोभ के असर से 20 मई तक बारिश जारी रहने का अनुमान है.

18 मई तक गुजरात के तट तक पहुंच सकता है चक्रवाती तूफान ‘तौकते’

  मौसम केंद्र द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों में  राज्य में कई जगहों पर हल्की बारिश और बूंदाबांदी हुई जबकि  गोरखपुर मंडल में दिन के तापमान में खासी बढ़ोत्तरी हई जबकि प्रयागराज, बरेली तथा मेरठ मंडलों में अधिकतम तापमान में वृद्धि हुई. वही यूपी में सबसे गर्म जगह बांदा में अधिकतम तापमान 42.6 डिग्री सेल्सियस होगा.


Share This News