Breaking News
Home / इंटरव्यू / अगर पता चले कि मैच फिक्स है, तो लोगों का क्रिकेट से उठ जाएगा विश्वास : धौनी
dhoni csk

अगर पता चले कि मैच फिक्स है, तो लोगों का क्रिकेट से उठ जाएगा विश्वास : धौनी

dhoni cskनई दिल्ली: ”2013 मेरे जीवन का सबसे कठिन दौर था. मैं कभी इतना निराश नहीं हुआ जितना उस समय था. इससे पहले विश्व कप 2007 में भी निराश हुए थे जब हम ग्रुप चरण में ही हार गए थे। लेकिन उसमें हम खराब क्रिकेट खेले थे. इन शब्दों के साथ महेंद्र सिंह धौनी ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच फिक्सिंग प्रकरण पर चुप्पी तोड़ते हुए इसे अपने जीवन का सबसे कठिन और निराशाजनक दौर बताया. भारतीय क्रिकेट को झकझोर देने वाले इस प्रकरण में प्रबंधन की भूमिका के कारण चेन्नई सुपर किंग्स को दो साल का प्रतिबंध झेलना पड़ा जिस पर जवाब देते हुए धौनी ने सवाल दागा कि खिलाड़ियों का क्या कसूर था. दो बार के विश्व कप विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धौनी  ने ‘रोर ऑफ द लॉयन’ डॉक्यूड्रामा में इस मसले पर कहा कि 2013 में तस्वीर अलग थी.
मैच फिक्सिंग पर आखिर बोले- खिलाड़ियों की क्या गलती थी कि उन्हें यह सब झेलना पड़ा
लोग मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग की बात करते थे. उस समय देश भर में यही बात हो रही थी. इस सीरीज के हॉटस्टार पर प्रसारित पहले एपिसोड ‘वॉट डिड वी डू रॉन्ग’ में धौनी ने कहा कि हमारी टीम ने गलती की लेकिन क्या खिलाड़ी इसमें शामिल थे. खिलाड़ियों की क्या गलती थी कि उन्हें यह सब झेलना पड़ा. खिलाड़ियों को पता था कि कड़ी सजा मिलेगी. उस समय हमें सजा मिलने जा रही थी बस यह जानना था कि सजा कितनी होगी. चेन्नई सुपर किंग्स पर दो साल का प्रतिबंध लगा.कप्तान के तौर पर यही सवाल था कि टीम की क्या गलती थी. उन्होंने कहा कि फिक्सिंग से जुड़ी बातों में मेरा नाम भी उछला. मीडिया और सोशल मीडिया में ऐसे दिखाया जाने लगा मानो टीम भी शामिल हो, मैं भी शामिल हूं. क्या यह संभव है. हां, स्पॉट फिक्सिंग कोई भी कर सकता है. अंपायर, बल्लेबाज, गेंदबाज लेकिन मैच फिक्सिंग में खिलाड़ी शामिल होते हैं.
धौनी ने आगे कहा कि मैच फिक्सिंग कत्ल से भी बड़ा गुनाह है. मैं आज जो कुछ भी हूं, क्रिकेट की वजह से हूं. मेरे लिए सबसे बड़ा गुनाह कत्ल नहीं, बल्कि मैच फिक्सिंग है. लोगों को अगर लगता है कि मैच का नतीजा असाधारण इसलिए है, क्योंकि वह फिक्स है तो लोगों का क्रिकेट पर से विश्वास उठ जाएगा और मेरे लिए इससे दुखदायी कुछ नहीं होगा.  धौनी ने कहा कि उस समय मिली जुली भावनाएं थी, क्योंकि आप बहुत सी बातों को खुद पर ले लेते हैं. उन्होंने कहा कि मैं इस बारे में दूसरों से बात नहीं करना चाहता था लेकिन अंदर से यह मुझे कुरेद रहा था। मैं नहीं चाहता कि किसी भी चीज का असर मेरे खेल पर पड़े. मेरे लिए क्रिकेट सबसे अहम है.

Check Also

hol

लखनऊ सीनियर हाॅकी लीग 13 अगस्त से

लखनऊ। लखनऊ हाॅकी के तत्वावधान में आगामी 13 अगस्त से लखनऊ सीनियर हाॅकी लीग का …

fot

सब जूनियर बालक फुटबाल ट्रायल 25 जुलाई से

लखनऊ। क्षेत्रीय खेल कार्यालय, लखनऊ एवं जिला फुटबाल संघ के समन्वय से जिला स्तरीय सब …

box

सबजूनियर बालिका बाक्सिंग ट्रायल 20 से

लखनऊ। क्षेत्रीय खेल कार्यालय, लखनऊ एवं जिला बाक्सिंग संघ के समन्वय से जिला स्तरीय सब …

The UTT 2018 winners

UTT Season-3: पिछले विजेता दंबग दिल्ली की पुनेरी पल्टन से टक्कर से होगा आगाज़

नई दिल्ली। अल्टीमेट टेबल टेनिस का तीसरा संस्करण नई दिल्ली में 25 जुलाई से शुरू हो …

kd

कराटे में पहली बार दो कोच, खेल विभाग ने 337 तदर्थ प्रशिक्षकों की लिस्ट को दी हरी झंडी

लखनऊ। खेल विभाग ने बड़ी जद्दोजहद के बाद आज प्रदेश के विभिन्न अंचलों में खेल …

tir

Icse board interzonal archery : ऋषि मधुराज ने झटके दोहरे स्वर्ण

लखनऊ। ऋषि मधुराज ने आईसीएसई बोर्ड इंटरजोनल तीरंदाजी प्रतियोगिता के अंडर-17 आयु वर्ग में इंडिया …