July 24, 2021

यूपी की 71 जेलों में इतने महिला और पुरुष कैदियों ने सीखे योग से निरोग रहने के गुण 

Share This News

लखनऊ। लखनऊ स्थित नारी बन्दी निकेतन में बंद सजायाफ्ता महिला कैदियों सहित प्रदेश की 71 जेलों के लगभग एक लाख कैदियों और जेलकर्मियो ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर योगाभ्यास किया. इस बीच जालौन जेल में कोरोना की दस्तक से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को इस बार वर्चुअल तरीके से मना यानि यहाँ कैदियों ने योग से निरोग होने के गुर सीखें.

वही शाहजहांपुर जेल में कभी किसी ने हंसी के ठहाके नहीं सुने होंगे. इसके साथ योग दिवस पर शाहजहांपुर की जेल में योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बंदी और कैदियों ने हंसी के ठहाके लगाये. परेशान चेहरों पर मुस्कुराहट देखने को मिली. यहां बंदियों ने कोविड-19 का पालन करते हुए दूरी के साथ मास्क को भी उपयेाग किया.

यहां बंदियों को योगा के बारे में जानकारी देकर बताया गया कि आसन से शरीर की बीमारियों का खात्मा होता है और सभी को उसका अभ्यास कराया. बंदियों को बताया गया  कि रोजाना यह आसन करने से आपका शरीर स्वस्थ्य रहेगा. मानसिक तनाव दूर होगा. जेल अधीक्षक ने कहा कि योग दिवस पर जो आसन कराये गये हैं. उन पर ध्यान दें.

अपने शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए इन आसनों को बैरक में रोजाना करें.  वहीं लखनऊ जेल और नारी बंदी निकेतन में एक दिन पूर्व ही बंदियों ने योगा दिवस को मनाने के लिए तैयारी कर ली थी. बड़ी संख्या में पुरुष व नारी बंदियों ने योग में हिस्सा लेकर खुद को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन योग करने का वचन लिया था और आज यों को प्रतिदिन योग करने की सलाह दी गयी.

डीजी जेल आनंद कुमार के अनुसार  कोरोना संक्रमण के चलते जेलों में  लागू किये गए नियमित योग से कैदियों की  शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही तनाव और अवसाद को मात देने की सीख मिलेगी.  उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर यूपी  की जेलों में  बंदियों व जेल कर्मचारियों व अधिकारियों ने ऑनलाइन व ऑफलाइन तरीके से  योगाभ्यास किया.

ये भी पढ़े : कोरोना टीकाकरण के मामले में दिल्ली से आगे यूपी की जेल


Share This News