Breaking News
Home / स्वास्थ्य / फ्लोरेंस नाइटेंगल के सेवा भाव की केजीएमयू चिकित्सकों ने की सराहना
KGMU

फ्लोरेंस नाइटेंगल के सेवा भाव की केजीएमयू चिकित्सकों ने की सराहना

KGMUलखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के कॉलेज ऑफ नर्सिंग द्वारा अन्र्तराष्ट्रीय नर्सेस दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन कलाम सेंटर में किया गया। इस अवसर पर मुख्य केजीएमयू के कुलपति प्रो.एमएलबी भट्टï ने नर्सिंग छात्र-छात्राओं से सामाजिक कार्यो में उनकी भूमिका पर कहा कि फ्लोरेंस नाइटेंगल जैसा सेवा भाव ही इस प्रोफेशन की सबसे पहली सीख है और नर्सिंग की पढ़ाई करने वाले छात्र-छात्राओं को सिर्फ अस्पतालों तक ही इस कार्य को सीमित नहीं रखना चाहिए। प्रत्येक छात्र-छात्राओं को अपने आस-पास के एक गांव को गोद लेना चाहिए और माह में एक बार वहां के मरीजों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके लिए केजीएमयू की ओर से उन्हें जो मदद चाहिए वह उसके लिए हरसंभव प्रयास करेंगे।

 अंतर्राष्ट्रीय नर्सेस दिवस 

कॉलेज ऑफ नर्सिंग द्वारा आयोजित ब्लड डोनेशन कैंप में 5 फैकेल्टी सदस्य और 37 छात्र-छात्राओं द्वारा रक्त दान किए जाने की सराहना की। कार्यक्रम में डीन फैकल्टी ऑफ नर्सिंग, एरा मेेडिकल कॉलेज लेफ्टीनेंट कर्नल रीना भोवाल ने कहा कि किसी भी चिकित्सालय में सर्वप्रथम मरीज और उनके तीमारदारों का सम्पर्क नर्स से ही होता है और मेडिकल प्रोफेशन में सबसे पहले पेशेंट केयर की बात आती है इसलिए एक नर्स द्वारा किए गए मधुर व्यवहार मरीज के आधे दर्द को खत्म कर देेता है।

डीन, कॉलेज ऑफ नर्सिंग डॉ. मधुमति गोयल ने कहा कि नर्सिंग का प्रोफेशन सामाजिक कार्य की तरह ही सेवा भाव से किए जाने वाला कार्य है और अपने कर्तव्य मार्ग पर डटे रहते हुए सेवा भाव के माध्यम से चिकित्सा संस्थान का नाम पूरे विश्व में रोशन करना है। नर्स अस्पताल की अतिथ्य होती हैं। किसी भी चिकित्सक द्वारा जब मरीज को चिकित्सा सुविधा प्रदान की जाती है या उसकी सर्जरी हो जाती है तो उसके पश्चात नर्सो द्वारा उनकी देखभाल की जाती है।
डीन, फैकल्टी ऑफ पैरामेडिकल साइंसेस डॉ. विनोद जैन ने कहा कि नर्सिंग के कार्य को सेवा और पूजा समझ कर करना चाहिए। मरीज की सेवा भगवान की सेवा समझ कर करनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने टीम भावना के साथ काम करने की अपील करते हुए कहा कि आपका सबसे बेहतर प्रदर्शन तब निकल कर आना चाहिए जब आपके सामने सबसे कठिन परिस्थिति हो।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एस.एन. शंखवार ने बताया कि विश्व युद्ध के समय घायल सैनिकों की मृत्युदर करीब 72 प्रतिशत थी, लेकिन जब उन्हें फ्लोरेंस नाइटेंगल द्वारा नर्सिंग सेवा प्रदान की जाने लगी, तो यह घटकर करीब 21 प्रतिशत ही रह गई थी। इस प्रकार आप सबका चिकित्सा जगत में एक महत्वपूर्ण और सराहनीय भूमिका है। आप सब लोग अपने कर्तव्य से कभी विमुख मत होना।

Check Also

1

किडनी प्रत्यारोपण में नारायण सेवा संस्थान से मिली मदद से रविन्द्र को मिला नया जीवन

जालौन: जालौन निवासी राम प्रकाश के 23 वर्षीय पुत्र रविन्द्र सिंह दो वर्ष से अधिक …

medical

आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर वाराणसी के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ.अरविन्द सिंह निलम्बित

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभागीय मंत्री एवं राज्य सरकार के …

study4

ऑटिज्म के प्रति जागरूकता की चली मुहिम

लखनऊ: स्टडी़ हॉल, दोस्ती ने लोगों का ध्यान ऑटिज़्म की ओर आकर्षित करने हेतु ऑटिज्म …

apolo-

जीवनशैली, जंक फूड और बुरी आदतों की देन है कोलोरेक्टल कैंसर की बीमारी

बुलंदशहर : अपोलो हाॅस्पिटल्स ग्रुप के मुख्य हाॅस्पिटल इन्द्रप्रस्थ अपोलो हाॅस्पिटल्स ने लोगों को रोबोटिकगैस्ट्रो-इन्टेस्टाइनलसर्जरी, कोलोरेक्टर …

IMG_5448

अनुसंधान कार्यक्रम मेँ अपरिहार्य अवस्था मेँ कम से कम जंतुओं के प्रयोग की ली शपथ

लखनऊ: प्रायोगिक जन्तु प्रभाग, केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान लखनऊ एवं लैबोरेटरी एनिमल साइंस एसोसिएसन आफ़ …

ssssss

ट्रांसएशिया बायोमेडिकल्स की हिमैटोलॉजी रेंज अब यूपी में भी उपलब्ध

लखनऊ: भारत की नंबर 1 इन-विट्रो डायग्नोस्टिक (आइवीडी) कंपनी, ट्रांसएशिया बायो-मेडिकल्स लिमिटेड और उभरते बाजारों …