July 25, 2021

प्रोफेशनल बाक्सिंग में लखनऊ के महेश डिगारी कमाल दम दिखाने को तैयार 

Share This News

लखनऊ। चीन में मुक्केबाजी में  दमखम दिखा चुके लखनऊ के युवा मुक्केबाज महेश सिंह डिगारी अब प्रोफेशनल बाक्सिंग मुकाबले में 25 जून को रशिया के नेशनल चैम्पियन टिगरान उज्लयान से भिड़ेंगे. यह मुकाबल आठ राउण्ड का होगा. खिताब अपने नाम करने के लिए महेश इन दिनों बंगलूरु के एक विशेष शिविर में कोच कमाल मुजतबा की देखरेख में पसीना बहा रहे हैं.

वेल्टर वेट यानी 64 किलोग्राम भार वर्ग में बाउट लड़ने वाले मुकेश बताते हैं कि उनके लिए यह अनूठा होगा. वह चीन के बाद अब रशिया में प्रोफेशनल बॉक्सिंग मुकाबलों को लेकर बेहद उत्साहित हैं. उनके व परिवार के लिए यह सपने जैसा है.

रशिया के नेशनल चैम्पियन टिगरान से होगी 25 जून को होगी टक्कर

लखनऊ के महेश सिंह डिगारी आर्मी से रिटायर्ड पुष्कर सिंह के बेटे हैं. लखनऊ के केडी सिंह बाबू स्टेडियम से साल 2008 में कोच अभिषेक कुमार धानुक की देखरेख में बॉक्सिंग के शुरूआत करते हुए प्रोफेशनल बॉक्सिंग में कदम रख दिया है. महेश सिंह डिगारी ने बताया कि रशिया में 25 जून को प्रोफेशनल बॉक्सिंग में  उनका मुकाबला रशिया के ही नेशनल चैम्पियन टिगरान उज्लयान से हैं.

उन्होंने बताया कि इस लाइट वेट में मुकाबला बेहद संघर्षपूर्ण होगा मगर हमारी मेहनत जरूर रंग लायेगी. मुक्केबाज महेश सिंह डिगारी का कहना है कि वह जीवन में रुकना नहीं, केवल आगे बढ़ते रहना चाहते हैं और यही कारण है कि उन्होंने प्रोफेशनल बॉक्सिंग में कदम रखा है. मुक्केबाज ने कहा कि प्रोफेशनल बॉक्सिंग में आने का कोई खास कारण नहीं है मेरे पास, मैं केवल जिंदगी में आगे बढ़ना चाहता हूं.

ये भी पढ़े : कोरोना काल में घर में स्किल तलाशने के लिए यूट्यूब से टिप्स ले रहे हॉकी खिलाड़ी

लखनऊ के युवा मुक्केबाज महेश ने कहा हम प्लेयर्स की पहचान हमारे खेल से है.  मुझे लोग एक मुक्केबाज के तौर पर जानते हैं और अगर मैं इसी के लिए शांत बैठ जाऊंगा, तो इसका कोई फायदा नहीं है. मैं जीवन में कुछ न कुछ करते रहना चाहता हूं. प्रोफेशनल बॉक्सिंग में आने के पीछे के सवाल पर महेश ने कहा कि पहले भी कई मुक्केबाज प्रोफेशनल बॉक्सिंग में आये हैं.

राजधानी के बॉक्सर महेश सिंह डिगारी ने बॉक्सिंग में नया इतिहास रच दिया है और वह राजधानी के पहले ऐसे बॉक्सर होंगे जो अंतरराष्ट्रीय प्रोफेशनल बॉक्सिंग में अपने पंच का दम चीन के बाद अब रशिया में दिखायेंगे. बताते चले कि साल 2017 में सुपर बॉक्सिंग लीग में मराठा योद्धा की तरफ से दमदार प्रदर्शन करने वाले महेश का चयन इसी के आधार पर चीन के लिए हुआ था.

ये भी पढ़े : इस वजह से रक्तदान के लिए प्रेरित हुए सचिन तेंदुलकर, बोली ये बात

उनके अलावा भारत के तीन अन्य बॉक्सरों की भी चयन हुआ था. बॉक्सिंग लीग में महेश ने जोरदार मुक्कों और चुस्ती के दम पर लीग में अपनी मराठा योद्धा के लिए सभी बाउट जीतीं. मराठा योद्धा सुपर बॉक्सिंग लीग के पहले सीजन की चैंपियन बनी थी. महेश छावनी से सटे निलमथा के रहने वाले उनके पिता पुष्कर सिंह रिटायर फौजी हैं.

उनकी इस सफलता के पीछे उनकी मां अनीता देवी का खास योगदान है. महेश को यूं तो और भी खेल अच्छे लगते हैं लेकिन बॉक्सिंग के प्रति उसमें जुनून है. शुरुआत में तो मुकेश इधर-उधर ही ट्रेनिंग कर लेता था पर बाद में केडी सिंह बाबू में उन्होंने दाखिला लिया. यहां कोच अभिषेक की देख-रेख में ट्रेनिंग कर मुकेश ने अपनी बॉक्सिंग को खूब चमकाया.

राज्य स्तर पर चैंपियन बने. कई बार राष्ट्रीय चैंपियनशिप में उत्तर प्रदेश की तरफ से हिस्सा लिया. केडी सिंह बाबू स्टेडियम में कभी अभिषेक कुमार से ट्रेनिंग लने वाली महेश मौजूदा समय हरियाणा स्थित साई सोनीपत एक्सीलेंस सेंटर में ट्रेनिंग करते हैं.

रशिया में खेले जाने वाले प्रोफेशनल मुक्केबाजी मुकाबले के बारे में महेश ने कहा कि हमारा प्रतिद्वंद्वी टिगरान रशिया का नेशनल चैम्पियन है.  हम दोनों के बीच मात्र एक ही मुकाबला होगा. ये मुकाबला आठ राउण्ड का होगा. सबकुछ अभ्यास पर निर्भर करता है.  कोरोनाकाल के दौरान थोड़ा अभ्यास बाधित जरूर हुआ है.

फिर भी उम्मीद है कि इस प्रोफेशनल मुकाबले में उम्दा जीत के साथ बेल्ट के खिताब के लिए खेलने का मौका मिलेगा. महेश डिगारी ने बताया कि कोच कमाल मुजतबा के ग्रासरूट बॉक्सिंग प्रमोशन ग्रुप की ओर से प्रोफेशनल बॉक्सिंग में जाने का मौका मिला है.

 


Share This News