Breaking News
Home / विदेश / Trade war and negotiation: चीन से कारोबार हटा सकती है कई दिग्गज अमेरिकी कंपनियां
america

Trade war and negotiation: चीन से कारोबार हटा सकती है कई दिग्गज अमेरिकी कंपनियां

americaअमेरिका और चीन के बीच तनातनी और व्यापार युद्ध के चलते चीन में काम कर रही कई  दिग्गज कंपनियां चीन से पर्याप्त उत्पादन क्षमता को स्थानांतरित करने का विचार कर रही हैं. वैसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि चीन के साथ चल रहे व्यापार युद्ध को समाप्त करने के लिए बातचीत पहले से ही शुरू हो चुकी है और आगे का रास्ता कांटों से भरा है. बस इसी के साथ हलचल ऐसी बढ़ी कि एचपी इंक, डेल, माइक्रोसॉफ्ट और अमेजन जैसी तकनीकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनियां चीन से पर्याप्त उत्पादन क्षमता स्थानांतरित करने पर विचार कर रही हैं. ओईस बारे में निक्केई एशियन रिव्यू की रिपोर्ट के अनुसार चीन के चोंगकिंग और कुशान शहर में नोटबुक चलाने वाली एचपी और डेल दोनों कंपनियां अपने उत्पादन का 30 फीसदी देश के बाहर ले जाना चाहती हैं.

वही अन्य कंप्यूटर निर्माता जैसे लेनेवो ग्रुप, एसर और अस्सिटेक भी चीन के बाहर उत्पादन का पता लगा रहे हैं जबकि  माइक्रोसॉफ्ट एक्सबॉक्स गेमिंग उत्पादन ढांचे और अमेजन अपने कुछ उत्पादों को भी स्थानांतरित कर सकता है. वैसे ईएफई की न्यूज रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका अपने सीमा शुल्क को 250 अरब डॉलर के चीनी सामान पर रख रहा है और बीजिंग अपने प्रतिशोधी सीमा शुल्क को 110 अरब अमेरिकी डॉलर के आयात पर बनाए रख रहा है. वैसे ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की ओसाका में हाल ही में जी-20 की बैठक में अमेरिकी कंपनियों को चीनी तकनीकी दिग्गज हुआवेई को उत्पाद बेचने की अनुमति पर सहमति जताई है. हालांकि ट्रंप ने शी के साथ मुलाकात में 3 2.5 करोड़ डॉलर मूल्य के चीनी आयातों पर 10 से 25 प्रतिशत के बीच सीमा शुल्क लगाने की धमकी दी थी.

वैसे निक्केई की रिपोर्ट के अनुसार फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी व इन्वेंटेक ने चीन से कुछ उत्पादन को ताइवान और मैक्सिको जैसे अन्य देशों में स्थानांतरित कर दिया है.  वही एप्पल कंपनी पहले ही चीन से अपने स्मार्टफोन उत्पादन का 30 फीसदी तक स्थानांतरित करने के विकल्प पर विचार कर रही है. वही अब अमेजन और निन्टेंडो कथित तौर पर वियतनाम को एक विकल्प के तौर पर तलाश रहे हैं, जबकि माइक्रोसॉफ्ट थाईलैंड के साथ ही इंडोनेशिया पर नजर गड़ाए हुए हैं.  रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन में बढ़ती लागत भी उत्पादन निर्माताओं को विकल्प तलाशने को मजबूर कर रही है. जानकारी के अनुसार चीन वर्तमान में दुनिया का सबसे बड़ा कंप्यूटर व स्मार्टफोन उत्पादक देश है.

Check Also

प्रतीकात्मक चित्र

बुर्किना फासो : कैथोलिक चर्च पर बंदूकधारियों का हमला, 6 की मौत

बुर्किना फासो: कैथोलिक चर्च पर हमले को अंजाम देते हुए बुर्किना फासो के डाबलो में …

neerav

नीरव मोदी की ब्रिटेन की अदालत से झटका, जमानत याचिका तीसरी बार खारिज

लंदन: भारत में पंजाब नेशनल बैंक के साथ दो अरब डॉलर तक की बैंक धोखाधड़ी और …

iran

ईरान की धमकी, 60 दिनों में शुरू कर देंगे यूरेनियम संवर्धन

वाशिंगटन: अगर यूरोपियन देशों ने परमाणु समझौते के मसले पर मदद नहीं दी तो ईरान अगले 60 …

juliyan

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को 50 सप्ताह जेल में रहना होगा

नई दिल्ली: इंग्लैंड में जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने के लिए विकीलीक्स के संस्थापक …

colambo

शंग्रीला होटल धमाके में ही मारा गया कोलंबो आतंकी हमले का सरगना जहरान हाशिम

कोलंबो। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने बताया कि ईस्टर के दिन कोलंबो में हुए …

sri 1

श्रीलंका में सबसे भयावह हमला, सीरियल ब्लास्ट में अब तक 190 की मौत

 कोलम्बो: श्रीलंका में रविवार को दो चर्च सहित छह जगहों पर सीरियल विस्फोट हुआ है. …