Breaking News
Home / ताजा खबर / मूर्तियों पर खर्च जनता का पैसा लौटाएं मायावती : उच्चतम न्यायालय
supreme court

मूर्तियों पर खर्च जनता का पैसा लौटाएं मायावती : उच्चतम न्यायालय

supreme courtनयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने मूर्तियां लगाने के मामले में बसपा सुप्रीमो को जोरदार झटका देते हुए बीएसपी प्रमुख को मूर्तियों पर खर्च हुआ जनता का पैसा लौटाने का आदेश दिया. मुख्यमंत्री रहते हुए मायावती ने प्रदेश के कई शहरों में अपनी और हाथी की कई मूर्तियां लगाई थीं. इस पर 2009 में मायावती के कार्यकाल में बनाई जाने वाली मूर्तियों के खिलाफ जनहित याचिका दायर की गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने उसी याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि बीएसपी प्रमुख जनता का पैसा लौटाएं. मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई कर रहे थे. इस मामले की अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होगी.

सर्वोच्च अदालत का यह आदेश बीएसपी सुप्रीमो के लिए बड़े झटके के तौर पर देखी जा रही है. लगभग 10 साल पुरानी इस याचिका पर सुनवाई करते हुए सर्वोच्च अदालत ने कहा, प्रथम दृष्टया तो बीएसपी प्रमुख को मूर्तियों पर खर्च किया गया जनता का पैसा लौटाना होगा. उन्हें यह पैसा वापस लौटाना चाहिए। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि मामले की अगली सुनवाई के लिए 2 अप्रैल की तारीख तय की जाती है. सुप्रीम कोर्ट ने 2009 में दायर रविकांत और अन्य लोगों द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि मायावती को मूर्तियों पर खर्च सभी पैसों को सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए.

बताते चले कि मायावती द्वारा उत्तर प्रदेश में बसपा शासनकाल में कई पार्कों का निर्माण करवाया गया. इन पार्कों में बसपा संस्थापक कांशीराम, मायावती और हाथियों की मूर्तियां लगवाई गई थीं. बसपा शासनकाल में ये पार्क लखनऊ, नोएडा समेत अन्य शहरों में बनवाए गए थे. सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले भी 2015 में उत्तर प्रदेश की सरकार से पार्क और मूर्तियों पर खर्च हुए सरकारी पैसे की जानकारी मांगी थी. उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार के दौरान लखनऊ विकास प्राधिकरण की रिपोर्ट के अनुसार लखनऊ, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में बनाए गए पार्कों पर कुल 5,919 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे. रिपोर्ट के अनुसार नोएडा स्थित दलित प्रेरणा स्थल पर बीएसपी के चुनाव चिन्ह हाथी की पत्थर की 30 मूर्तियां जबकि कांसे की 22 प्रतिमाएं लगवाई गईं थी. इसमें 685 करोड़ का खर्च आया था. इसी रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इन पार्कों और मूर्तियों के रखरखाव के लिए 5,634 कर्मचारी बहाल किए गए थे. वैसे 2012 विधानसभा चुनाव के दौरान समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था. तब अखिलेश ने मायावती पर 40 हजार करोड़ के मूर्ति घोटाले का आरोप लगाया था. उस वक्त उत्तर प्रदेश में मायावती के मूर्ति लगाने का विरोध समाजवादी पार्टी समेत अन्य दलों ने भी किया था. हालांकि  में अब एसपी-बीएसपी की तल्खियां दूर हो गई हैं और दोनों पार्टियां गठबंधन में 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही हैं.

Check Also

aaaaaaaam

शाह से मुलाकात में ममता ने असम एनआरसी पर की चर्चा

नई दिल्ली, 19 सितम्बर, 2019: असम में बड़ी संख्या में भारतीयों के नाम एनआरसी में शामिल …

sk

PKL : यू मुंबा ने रोमांचक मैच में यूपी योद्धा को 39-36 से दी मात

पुणे, 18 सितम्बर, 2019।  यू मुंबा ने  पुणे के श्री शिव छत्रपति स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में खेली …

aaa

ममता बनर्जी ने पीएम मोदी की पत्नी जशोदाबेन को भेंट की साड़ी

कोलकाता, 18 सितम्बर, 2019: मंगलवार को कोलकाता के हवाईअड्डे से नयी दिल्ली के लिये विमान में …

ssss

अयोध्या विवाद मामले में 18 अक्टूबर तक हो सकता फैसला, जारी रहेगी मध्यस्थता

नई दिल्ली, 18 सितम्बर, 2019:सुप्रीम कोर्ट में चल रही राम मंदिर बाबरी मस्जिद मालिकाना विवाद …

Dr Ritu Trivedi copy

सीडीआरआई के दो वैज्ञानिकों डॉ अतुल गोयल एवं डॉ रितु त्रिवेदी को एनएएसआई का प्रतिष्ठित पुरस्कार

लखनऊ, 18 सितम्बर, 2019: सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट(सीडीआरआई), लखनऊ के वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक डॉ अतुल गोयल और …

03592bb7-23af-4551-9b06-ddc3394e27fc

35वीं वाहिनी पीएसी ने जीती तैराकी की टीम चैंपियनशिप, विवेक सिंह बने सर्वश्रेष्ठ तैराक

लखनऊ, 18 सितम्बर, 2019। 35वीं वाहिनी पीएसी लखनऊ के खिलाड़ियों ने 21वीं अंतर वाहिनी पीएसी मध्य …