July 23, 2021

यूपी में यहाँ बनेगा मेगा लेदर पार्क, परफ्यूम पार्क और परफ्यूम म्यूजियम, ये है योजना 

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इंवेस्टर फ्रेंडली औद्योगिक नीतियों ने अब काम करना शुरू कर दिया है और अब उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) की भूमि पर बड़े -बड़े उद्योगपति अपनी फैक्ट्री लगा रहे है. इसमें पिछले  चार साल से अब तक के 51 जिलों में यूपीसीडा के औद्योगिक क्षेत्रों में 3500 से ज्यादा ने फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन ली हैं.

इसमें राज्य में 11,500 करोड़ रुपए से  ज्यादा का निवेश होगा और लगभग एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. इसमें से कई  उद्योगपतियों ने अपनी फैक्ट्री लगाने के बाद उत्पादन भी शुरू कर दिया है और  अब यूपीसीडा के अफसर राज्य में ज्यादा निवेश लाने की योजना पर काम कर रहे है. इसके चलते उन्नाव में मेगा लेदर पार्क और कन्नौज में परफ्यूम पार्क और परफ्यूम म्यूजियम बनाया जायेगा.

यूपीसीडा के प्रयासों से पिछले चार साल में 3500 से ज्यादा उद्योगपतियों ने फैक्ट्री के लिए जमीन ली

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अनुसार इन योजनाओं से परंपरागत उद्योगों में निवेश हॉग और उन्नाव के लेदर उत्पाद और कन्नौज के इत्र की  दूर-दूर तक पहचान बनेगी. इस योजना में उन्नाव के 42 एकड़ क्षेत्रफल में मेगा लेदर पार्क बनाने की योजना है जिसकी लागत लगभग 550 करोड़ रुपए होगी. इससे लेदर उत्पाद बनाने वाली बड़ी -बड़ी कंपनियां यहां निवेश कर सकेंगी.

वही कन्नौज का इत्र का कारोबार  कन्नौज में एक परफ्यूम पार्क और परफ्यूम म्यूजियम बनाने से बचेगा. परफ्यूम पार्क को लेकर तर्क है कि संसाधनों की कमी से  कृत्रिम इत्र कंपनीज और पारंपरिक इत्र का व्यापार मुश्किल हो रहा है. परफ्यूम पार्क  बनने से लोग अपना पुश्तैनी काम करते रहेंगे.

वही परफ्यूम म्यूजियम से भी स्थानीय व्यवसायों को बढ़ावा देने में सहायता मिलेगी और शुद्ध और प्राकृतिक परफ्यूम बनाने की विरासत का प्रचार हो सकेगा. बताते चले कि यूपीसीडा के प्रयासों से पिछले चार साल ,में औद्योगिक क्षेत्रों में 3500 से ज्यादा उद्योगपतियों ने फैक्ट्री के लिए जमीन ली और कई फैक्ट्रियों में उत्पादन भी शुरू हो गया है.

ये भी पढ़े : यूपी की नई जनसंख्या नीति में ये खास पहलू, स्थानीय निकाय भी चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे

इसके साथ हरदोई के संडीला में आईटीसी लिमिटेड, वरुण बेवरेजेज लिमिटेड (पेप्सिको), बर्जर पेंट्स लिमिटेड, ग्रीन प्लाई इंडस्ट्रीज लिमिटेड, ब्रिटिश पेंट्स लिमिटेड, वेब्ले स्कॉट लिमिटेड, शाहजहांपुर में कृभको फर्टिलाइजर लिमिटेड, कानपुर में प्लास्टिक पैक लिमिटेड, बाराबंकी में एसएमएस जी लिमिटेड (कोका कोला) तथा आगरा में वॉन वेल्स लिमिटेड का  फैक्ट्री लगाने का प्रस्ताव है.

ये भी पढ़े : शैक्षिक गुणवत्ता बढ़ाना व शिया पीजी कालेज को ऑटोनाॅमस बनाना प्रमुख लक्ष्य: मौलाना यासूब अब्बास

वही कोरोना काल में भी पिछले एक साल में  एक हजार से ज्यादा उद्योपतियों ने फैक्ट्री लगाने के लिए यूपीसीडा से जमीन ली है जिससे लगभग 5100 करोड़ रुपए का निवेश होगा. इन कंपनियों में ब्रिटिश कंपनी एवी मोरी ने चित्रकूट और पीलीभीत में फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन ली है.

इसके साथ हिंदुस्तान यूनिलीवर हमीरपुर के सुमेरपुर में, त्रिवेणी अलमीरा ने बाराबंकी के कुर्सी रोड पर, फारेवर डिस्टलरी ने गोरखपुर में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन ने बदायूं में और आईनॉक्स एयर प्रोडक्ट्स लिमिटेड ने रायबरेली में जमीन ली है जहां ये कंपनीज  अपनी फैक्ट्री लगाएंगी.


Share This News