July 25, 2021

मेटलाइफ फाउंडेशन ने कोरोना से जंग में दान किये 1.2 मिलियन यूएस डॉलर

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

स्वास्थ्य सुविधाओं, अग्रणी रूप से काम कर रहे लोगों, व्यक्तियों और परिवारों पर बढ़ते दबाव के आलोक में, सहायता प्रयासों को मजबूती देने और भारतीय स्वास्थ्य सेवा तंत्र के ऊपर दबाव को कम करने के लिए मेटलाइफ फाउंडेशन ने अपने दान की राशि को बढ़ाकर 1.2 मिलियन यूएस डॉलर कर दिया.

दान की राशि का वितरण अमेरिकन इंडियन फाउंडेशन, हैबिटेट फॉर ह्यूमैनिटी, हीलिंग फील्ड्स फाउंडेशन और ट्रिकल अप जैसे गैर-लाभकारी् संगठनों द्वारा किया जाएगा जो केंद्रीय और स्थानीय सरकारों के साथ मिलकर काम कर रही है.

हैबिटेट फॉर ह्यूमैनिटी के माध्यम से यह दान राशि 600 बेड, चिकित्सा उपकरणों और दूसरी सामग्रियों जैसे ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स और पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई) का विस्तारण चार प्रमुख राज्यों (लखनऊ और वाराणसी) में दिल्ली, महाराष्ट्र (मुंबई और वसीम), कर्नाटक (बैंगलोर) जाएगा.

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

ये राज्य महामारी का दंश झेल रहे हैं और उनकी स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे को इस समय इसकी सबसे अधिक जरूरत ह अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन के साथ इसकी भागीदारी और दूसरे दानकर्ताओं के सहयोग से, 30, 000 पोर्टेबल वेंटिलेटरों की एक बड़ी खेप निःशुल्क रूप से बहुत से राज्यों को प्रदान किया गया है, जिसमें मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, कर्नाटक और दिल्ली शामिल हैं.

हीलिंग फील्ड्स फाउंडेशन की मदद से बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड के 500 गांवों के 625,000 लोगों क जनसंख्या के लिए फोन पर परामर्श सहायता, खाद्य पदार्थों की आपूर्ति, दवाईयां और दूसरे होम-आइसोलेशन और प्रबंधन सहायता प्रदान की जाएगी.

वही उड़ीसा के ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रिकल अप सर्वाधिक दयनीय स्थिति वाले 1000 से ज्यादा परिवारों तक अति आवश्यक खाद्य पदार्थों की आपूर्ति के साथ साथ स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता प्रदान करेगा.130 करोड़ की आबादी वाला यह देश इस समय महामारी का वैश्विक केंद्र बन चुका है और इसके स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे पर इसकी क्षमता से अधिक बोझ पड़ चुका है.

जहां अस्पताल ऑक्सीजन, बेड और वेंटिलेटरों की भारी कमी का सामना कर रहे हैं और मरीजों को बचाने के इन प्रयासों में पूरी तरह से लड़खड़ाते नजर आ रहे हैं.

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस : नियमित आय के साथ रिटायरमेंट समाधान भी

किशोर पोन्नावोलु (मेटलाइफ एशिया के प्रेसिडेंट और पीएनबी मेटलाइफ बोर्ड के चेयरमैन) ने कहा कि देश भर में महामारी के द्वारा उपजी इस विपत्तियों से भरी स्थितियों को देखकर भारत के लोगों के लिए हमारा दिल भर आता है.

हम आगे बढ़कर काम करने वाले फ्रॉन्टलाइन कार्यकर्ताओं जैसे चिकित्सा कर्मियों और सेवा कर्मियों जिनके प्रयास से भारत इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में केंद्रीय स्थिति में हम उनका जितना भी आभार प्रकट करें या उनका हौसला बढ़ाएं वह कम होगा.

पीएनबी मेटलाइफ के प्रबंध निदेशक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि हमारा देश गहरे संकट की स्थिति में है और महामारी के अद्वितीय प्रकोप का सामना कर रहा है. इस समय उन चिकित्सा बुनियादी ढांचे को सहयोग की तत्कालिक आवश्यकता है जो बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं.

भाजपा नेता संजय सिंह ने इटौंजा के ग्रामीण क्षेत्रों में बांटी कोविड सुरक्षा किट

हम सहायता प्रयासो को मजबूती प्रदान करने के लिए संसाधनों के एकत्रीकरण के लिए अपनी पूरी क्षमता से प्रयासरत रहेंगे. हम पीएनबी मेटलाइफ, मेटलाइफ फाउंडेशन द्वारा समुदायों की आवश्यकता को समझने और मुख्य रूप से प्रभावी क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के साथ हमारे साथ इस चुनौतीपूर्ण समय में खड़े होने के लिए धन्यवाद देते हैं.

यह अनुदान भारत में दीर्घ कालिक रूप से चिकित्सा संबंधी बुनियादी ढांचे के निर्माण के प्रयास को मजबूती प्रदान करेगा और इस अप्रत्याशित समय में हमारे समुदाय के लिए मददगार साबित होगा.


Share This News