July 25, 2021

‘रुद्राक्ष’ में आधुनिक चमक व सांस्कृतिक आभा, भारत-जापान संबंधों पर नया अध्याय : मोदी

फोटो सोशल मीडिया

फोटो सोशल मीडिया

Share This News

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर चल रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को काशी को 1583 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की सौगात दी. इसके बाद प्रधानमंत्री ने भारत और जापान की दोस्‍ती के प्रतीक रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर का  दोपहर दो बजे उद्घाटन किया.

इस अवसर पर पीएम मोदी ने अपने संबोधन में बोला कि जापान के सहयोग से यह कन्‍वेंशन सेंटर बना है और काशी को नयी सौगात मिली है और  रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर के लिए जापान को थैंक्स, उन्होंने आगे कहा कि जापान हमारे विश्‍वसनीय दोस्‍तों में से एक है.इससे पहले  पीएम हेलिकाप्‍टर से बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के आईआईटी टेक्‍नो ग्राउंड पर सुबह 11.02 बजे पहुंचे.

प्रधानमंत्री ने भारत और जापान की दोस्‍ती के प्रतीक रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर का किया उद्घाटन

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

फिर सीएम के संबोधन के बाद प्रधानमंत्री ने सुबह 11:27 बजे सभी योजनाओं को जनता को समर्पित किया. फिर पीएम ने बीएचयू एमसीएच के निरीक्षण के बाद कोरोना की तीसरी लहर से बचाव की तैयारियों का जायजा लिया. फिर 18 कोरोना वारियर्स से बातचीत के बाद प्रधानमंत्री ने दोपहर दो बजे जापान के सहयोग से बने रुद्राक्ष कन्‍वेंशन सेंटर का लोकार्पण किया.

काशी को दी 1583 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की सौगात

लोकार्पण के बाद पीएम ने बोला कि ‘रुद्राक्ष’ में आधुनिक चमक और सांस्कृतिक आभा है और इस परियोजना से भारत-जापान संबंधों और भविष्य के अवसरों की संभावना पता चलती है और दोनों देशों के प्रयासों से विकास और द्विपक्षीय संबंधों पर नया अध्याय लिखा गया है.

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

उन्होंने बोला कि काशी का प्राचीन वैभव अब अपने आधुनिक रूप में है और  कोविड के दौरान जब देश रुका तो काशी संतुलित और अनुशासित रहा, लेकिन विकास का प्रवाह जारी रहा.  पीएम ने कहा कि लोग पूरी दुनिया से बनारस आते हैं और बनारस के रोम-रोम में संगीत बसा है और यह कला का ग्‍लोबल सेंटर हो गया है.

इसके साथ सबके हित और कल्याण के लिए आंसू के रूप में भगवान शिव की आंखों से रुद्राक्ष प्रकट हुआ था. उनका आंसू मानव के लिए प्रेम का प्रतीक है. पीएम मोदी ने बोला कि  मैं काशी के विकास के लिए आया हूं. पीएम मोदी ने बोला कि पिछले 6-7 साल में बनारस के हैंडीक्राफ्ट और शिल्प को मजबूत करने के लिए  काम हुआ है. इससे बनारसी सिल्क और बनारसी शिल्प को फिर से नई पहचान मिल रही है.

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे बोला कि रणनीतिक व  आर्थिक रूप से  जापान भारत के सबसे विश्वसनीय दोस्तों में से एक है. हमारी दोस्ती नेचुरल पार्टनरशिप में से एक है. अभी अपने पिछले कार्यक्रम में मैंने काशीवासियों से कहा था कि इस बार काफी लंबे समय के बाद आपके बीच आने का मौका मिला लेकिन बनारस का मिजाज ऐसा है कि अरसा भले लंबा हो लेकिन  शहर जब मिलता है तो भरपूर रस एक साथ ही भरकर दे देता है.

ये भी पढ़े : तीसरी लहर के मुहाने पर है देश, केरल सहित पूर्वोत्तर के सात राज्यों में संक्रमण बेकाबू 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बोला कि महादेव के आशीर्वाद से काशीवासियों ने विकास की गंगा बहा दी.  सैकड़ों करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्‍यास हुआ है. काशी का वैभव आधुनिक स्‍वरुप के अस्‍तित्‍व रूप में सामने आ रहा है. बाबा की नगरी थमती और रुकती नही है. स्‍वभाव को सिद्ध किया है.

वैसे कोरोना में दुनिया ठहर गई तो काशी संयमित हुई अनुशासित हुई लेकिन स्रजन और विकास की धारा बहती रही है.  वही रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर के उद्घाटन के अवसर पर सीएम योगी आदित्यनाथ बोले कि 2018 में जापान की मदद से रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की आधारशिला रखी गई थी. काशी अध्यात्म, साहित्य, संगीत का बहुत ही महत्वपूर्ण केंद्र है. इसका उद्घाटन आज होने जा रहा है. यह खुशी का पल है.

फोटो सोशल मीडिया
फोटो सोशल मीडिया

इससे पहले दोपहर 1.50 बजे रुद्राक्ष इंटरनेशनल कन्‍वेंशन सेंटर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परिसर में रुद्राक्ष का एक पौधा रोपकर भवन का औपचारिक उद्घाटन किया. इस अवसर पर जापान सरकार के प्रतिनिधि के रूप में भारत में जापान के राजदूत सातोशी सुजुकी भी आये थे.  इस आयोजन के समय प्रधानमंत्री को सीएम योगी ने रुद्राक्ष पर आधारित मॉडल भेंट करने के साथ रुद्राक्ष पर बना अंगवस्‍त्र भेंट किया.

ये भी पढ़े : संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से, सरकार के सामने 30 बिल पास करवाने की चुनौती  

इस बीच रुद्राक्ष पर बना एक वृत्‍तचित्र सीएम के संबोधन के बाद दिखाया गया और जापान के प्रधानमंत्री योशिहुदे सुगा का रिकार्डेड वीडियो संबोधन भी इस दौरान सुनाया गया. इसमें जापान के प्रधानमंत्री ने भारत जापान के संबंधों पर  विचार रखते हुए इसे आगे भी जारी रखने के लिए वचनबद्धता दोहराई.


Share This News