July 24, 2021

दिनचर्या में साइकिलिंग को अवश्य करें शामिल, बीमारी भागेंगी दूर

Share This News

लखनऊ। कोरोना काल में फिटनेस एक्सरसाइज के लिए साइकिलिंग का महत्व काफी बढ़ गया है, इसकी सवारी से पर्यावरण सरंक्षण के संदेश के साथ कई बीमारियों से छुटकारा भी मिलता है। इसे ऐसे समझे कि कोरोना वायरस की  दूसरी लहर की उन लोगों पर मार पड़ी जो अन्य बीमारियों जैसे मधुमेह, हृदय संबंधित बीमारियों व मोटापे से भी पीड़ित थे।

विश्व साइकिलिंग दिवस पर सोशल डिस्टेंसिंग  के साथ चलाई साइकिल

दरअसल विश्व साइकिलिंग दिवस (वर्ल्ड साइकिलिंग डे-3 जून)   के अवसर पर देखे तो  लोग आजकल मोटरसाइकिल और कार से जाना ज्यादा पसंद करते हैं। जिससे मोटापा की,थाईरॉइड ,डाईबटीज आदि की समस्या को आप साइकिल चलाकर भी ठीक कर सकते हैं। वही सुबह उठकर साइकिल चलाने से रात में नींद भी अच्छी आती है।

आनंद किशोर पाण्डेय
आनंद किशोर पाण्डेय

 पैडलयात्री साइकिलिंग एसोसिएशन ने फिटनेस से बीमारियों को हराने का दिया संदेश

इस बारे में  पैडलयात्री साइकिलिंग एसोसिएशन के सचिव एवं  मशहूर साइकिलिस्ट आनंद किशोर पाण्डेय ने बोला कि साइकिल चलाने से कई गंभीर बीमारियों से लड़ने में मदद मिलती है। इसके साथ ही साइकिलिंग से शरीर में हीमोग्लोबिन भी बढ़ता है। वहीं इम्यून सिस्टम अच्छा होने से बीमारी का नुकसान भी कम होता है।

इससे कोविड-19 से भी लड़ने में मदद मिलती है। उन्होंने बताया कि इस कोरोना काल में हम साइकिलिंग करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग  के पालन करते हुए  थोड़ी दूरी बनाकर साइकिल चलाते है। उन्होंने कहा कि हेल्दी रहने के लिए साइकिल चलाने से वजन को कम रखने में मदद के साथ डिप्रेशन, टेंशन और चिंता कोे कम रखने में भी मदद मिलती है।

कोरोना काल में साइकिल चलाने से मिलेगी फिटनेस को डोज

आनंद किशोर पाण्डेय के अनुसार साइकिलिंग करने से याददाश्त भी मजबूत होती है यानि साइकिल चलाने वालों की ब्रेन पावर दूसरो की तुलना में 15 फीसदी अधिक होती है। साइकिल चलाने से दिल की बीमारियों का खतरा भी कम होता है। उन्होंने साइकिलिंग को एरोबिक एक्सरसाइज बताते हुए बोला कि इससे घुटनों के जोड़ों और आपके पैरों की पूरी एक्सरसाइज होती है।

इससे पैरों की मांसपेशियों की भी बेहतरीन एक्सरसाइज होती है और साइकिल चलाने से घुटनों पर काफी कम दबाव होता है। साइकिल के नेशनल प्लेयर और कई सालों से लखनऊ में साइकिल खिलाडिय़ों को कोचिंग दे रहे  रोहित सिंह खेल विभाग से एकहॉक कोच हैं लेकिन कोरोनाकाल में रिन्युवल प्रक्रिया अधूरी रहने के चलते  रोहित प्रशिक्षण से दूर हैं मगर साइकिल को वह नियमित रूप से चलाते हैं।

रोहित सिंह ने बताया कि पिछली अखिलेश सरकार में वेलोड्रोम स्टेडियम की हरी झण्डी मिली थी। अब दोबारा वलोड्रोम स्टेडियम लखनऊ में बनने जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्टेडियम तैयार होने के बाद साइकिल खिलाडिय़ों को बड़ी सुविधा उपलब्ध हो जायेगी।  पैडलयात्री साइकिलिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश वर्मा ने कहा कि कुछ समय साइकिलिंग करने से ब्लड सेल्स बढ़ते है।

आक्सीजन सप्लाई बेहतर होने से त्वचा की चमक बढ़ जाती है।  उन्होंने कहा कि ग्रुप राइड में हम एक दूसरे को हमेशा उत्साहित एवं प्रेरित करते रहते हैं तथा एक दूसरे के सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखते हैं। मैं सभी देशवासियों से आग्रह करना चाहता हूं कि वो अपनी दिनचर्या में साइक्लिंग को अवश्य शामिल करें।

पुष्पा वर्मा ने कहा किसाइकिल चलाने से हमारी सेहत अच्छी रहती हैं। मैं चाहती हूं की ज्यादा से ज्यादा महिलाएं आगे आएं और साइकिल चलाएं स्वस्थ रहें। हमारे ग्रुप में बहुत सी महिलाएं राइडर्स हैं जो विभिन्न कार्य क्षेत्रों में आगे हैं।  इस अवसर पर  कोषाध्यक्ष अरूण मौर्या, जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल के चेयरमैन सर्वेश गोयल व अन्य मौजूद थे।


Share This News