July 24, 2021

कोरोना के इलाज के लिए नई गाइडलाइंस, इन दवाओ का अब नही होगा इस्तेमाल 

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

Share This News

नई दिल्ली। देश में  फ़ैल रही कोरोना  महामारी की दूसरी लहर की  स्पीड थोड़ी धीमी होने लगी है. इस बीच केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए नए दिशा-निर्देश दिए हैं. इस बारे में  केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के डायरेक्‍टरेट जनरल ऑफ हेल्‍थ सर्विसेज (डीजीएचएस) ने कोरोना के इलाज में  प्रयोग हो रही दवाओं की लिस्ट में बदलाव किया है.

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

इसके चलते बिना लक्षण या हल्‍के लक्षण वाले कोरोना मरीजों के इलाज में सिर्फ एंटीपाइरेटिक और एंटीट्यूसिव दवाओ का इस्तेमाल होगा.  स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की 27 मई को जारी की गई संशोधित गाइडलाइंस के चलते बिना लक्षण व हल्‍के लक्षण वाले मरीजों के इलाज में डॉक्‍टरों द्वारा से दी जाने वाली हाइड्रॉक्‍सीक्‍लोरोक्‍वीन, आइवरमेक्टिन, डॉक्‍सीसाइक्लिन, जिंक, मल्‍टीविटामिन और अन्‍य दवा अब नहीं दी जाएँगी.

अब 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों का फ्री वैक्सीनेशन : पीएम मोदी 

अब हल्के या बिना लक्षण वाले मरीजों को बुखार के लिए एंटीपाइरेटिक और सर्दी जुकाम के लक्षण के लिए एंटीट्यूसिव ही दी जाएगी. गाइडलाइंस में डॉक्‍टरों को ये भी कहा गया है कि मरीजों के सीटी स्‍कैन सहित गैर जरूरी टेस्‍ट बंद किये जाये. वही लोगो को कोरोना से बचाव के लिए सोशल डिस्‍टेंसिंग, फेस मास्‍क और हाथ धोने जैसी आदत डालने को कहा गया है.

दी गयी ये सलाह

  • डीजीएचएस ने  कहा कि कोरोना संक्रमित को  फोन पर कंसल्‍टेशन  और पौष्टिक खाना खाने का भी सुझाव दिया गया है
  • कोरोना मरीज और उनके परिजन एक-दूसरे से फोन या वीडियो कॉल के जरिये सकारात्‍मक बातें करे. मरीज और उनके परिजन फोन से  एक-दूसरे से जुड़े रहें
  • बिना लक्षण वालो के लिए कोई दवाई नहीं लेकिन उन्हें कोई दूसरी बीमारी  न हों
  • हल्‍के लक्षण वाले मरीज खुद से ही बुखार, सांस लेने में तकलीफ और ऑक्‍सीजन लेवल की करे निगरानी
  • कोरोना लक्षण वाले मरीज  एंटीपाइरेटिक और एंटीट्यूसिव दवा ले
  • खांसी के लिए हें बूडसोनाइड की 800 एमसीजी मात्रा दिन में दो बार पांच दिन तक लेनी होगी.

Share This News