July 29, 2021

यूपी में घातक डेल्टा प्लस के साथ अब कोरोना के कप्पा वैरिएंट की भी एंट्री

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

पहले डेल्टा और अब   कोरोना के सबसे घातक वैरिएंट डेल्टा प्लस की यूपी में एंट्री हो चुकी है. जानकारी के अनुसार  गोरखपुर और देवरिया के दो मरीजों में डेल्टा प्लस की पुष्टि हुई है और इनमे से एक मरीज की जान जा चुकी है. जीनोम सिक्वेंसिंग से डेल्टा प्लस का पता चलने से विभाग में दहशत है.

बीआरडी मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबॉयोलॉजी ने कराई थी जीनोम सीक्वेसिंग

जानकारी के अनुसार  30 मरीजों के नमूनों की जीनोम सीक्वेसिंग जांच हुई थी जिसमे 27 में डेल्टा, दो में डेल्टा प्लस और एक मरीज में कप्पा वैरिएंट का नया  स्ट्रेन मिला है.

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

यहाँ बीआरडी मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबॉयोलॉजी की टीम ने मरीजों के नमूने अप्रैल और मई माह में कलेक्ट करके जीनोम सीक्वेसिंग के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव (आईजीआईबी) दिल्ली भेजे थे जिसकी रिपोर्ट  बुधवार को बीआरडी के माइक्रोबॉयोलॉजी विभाग को रिपोर्ट मिली थी.

30 नमूनों की हुई थी जीनोम सीक्वेसिंग, 27 में डेल्टा, दो में डेल्टा प्लस और एक में कप्पा वैरिएंट का नया स्ट्रेन

दरअसल   जिले में संक्रमण बढ़ने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो  गया था और आफे पड़ताल के लिए  बीआरडी मेडिकल कालेज के माइक्रोबायोलॉजी विभाग की टीम ने अप्रैल और मई माह में 15-15 मरीजों के सैंपल जीनोम सीक्वेसिंग  के लिए आईजीआईबी दिल्ली को भेजा था. फिर जीनोम सीक्वेसिंग की रिपोर्ट में दो मरीजों में डेल्टा प्लस, 27 में डेल्टा और एक मरीज में कप्पा वैरिएंट की पुष्टि हुई है.

वैसे यूके और अमेरिका में बुरा हाल किया था और यूपी में  डेल्टा प्लस और कप्पा वैरिएंट का यह पहला केस है जिसके बाद  गोरखपुर से लेकर लखनऊ तक हड़कंप मचा है. हालांकि अब तक राज्य में  मरीजो में  डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई थी.

जानकारी के अनुसार डेल्टा प्लस के दो मरीजों में से एक की मौत हो चुकी है. देवरिया के रहने वाले इस  मरीज की उम्र 66 साल थी जो वह 17 मई को पॉजिटिव हुआ था. उसे बीआरडी मेडिकल कॉलेज में गंभीर हाल में मई माह में ही भर्ती किया था और जून में उसकी मौत हो गई थी लेकिन  मौत से पहले माइक्रोबॉयोलॉजी की टीम ने मरीज का नमूना जांच के लिए भेजा था.

ये भी पढ़े : कोरोना का लैम्बडा वेरिएंट बढ़ा रहा चिंता, चीनी वैक्सीन भी है बेकार 

वही डेल्टा प्लस की दूसरी संक्रमित एमबीबीएस की छात्रा की आयु 23 साल है. मूलत: लखनऊ की रहने वाली  ये  छात्रा बीआरडी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है. उसको  26 मई को पॉजिटिव मिलने के बाद  जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए नमूना अप्रैल माह में लिया गया था जिसकी तबीयत अब ठीक है.

इस बारे में माइक्रोबॉयोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ अमरेश सिंह ने बोला कि 30 मरीजों के जीनोम सीक्वेसिंग की रिपोर्ट आईजीआईबी ने जारी की है. इनमें 27 मरीजों में डेल्टा, दो मरीजों में डेल्टा प्लस और एक मरीज में कप्पा वैरिएंट मिला है। इन लोगों के सैंपल अप्रैल और मई माह में जांच के लिए भेजे गए थे.


Share This News