July 29, 2021

25 जून तक बढ़ी सुशील की न्यायिक हिरासत, कोर्ट का फैसला

Share This News

पहलवान सागर की हत्या के मामले में जेल में बंद मुख्य आरोपी ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार की न्यायिक हिरासत दिल्ली की रोहिणी कोर्ट ने 25 जून तक बढ़ाई है.

पुलिस ने कोर्ट में सुशील कुमार पर हत्या का मुख्य आरोपी और मास्टरमाइंड होने का आरोप लगाते हुए कहा कि उसके पास पुख्ता इलेक्ट्रॉनिक एविडेंस हैं जिनमें सुशील और उनके सहयोगी को सागर की पिटाई करते हुए दिखाई दे रहे है.

सुशील कुमार नौ दिन की न्यायिक हिरासत के बाद रोहिणी कोर्ट में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट रीतिका जैन के समक्ष पेशी हुई. सुशील पर हत्या, गैर इरादतन हत्या और अपहरण के आरोप हैं.

हत्या के मामले में मुख्य संदिग्ध 38 वर्षीय पहलवान सुशील कुमार और उसके सहयोगी अजय बक्करवाला को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम ने 23 मई को दिल्ली के मुंडका से गिरफ्तार किया था. उन्हें दो जून को नौ दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा था. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच छत्रसाल स्टेडियम में हुए विवाद से संबंधित मामले की जांच कर रही है.

सुशील कुमार को मिलेगा जेल का खाना, कोर्ट ने सुनाया फैसला

दोनों आरोपी चार मई को देर रात हुई घटना के बाद से फरार थे. पहलवान सुशील पर पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम और अजय पर 50 हजार के इनाम घोषित था.

इस हत्याकांड में सुशील कुमार व उनके साथी अजय बक्करवाला, प्रिंस, भूपेंद्र, मोहित, गुलाब, मंजीत, रोहित करोर, विजेंदर उर्फ बिंदर और अनिरुद्ध समेत कुल 10 लोग अर्र्रेस्ट हो चुके है.

दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में चार मई की रात दिल्ली के मॉडल टॉउन थाना क्षेत्र से पहलवान सुशील और उसके साथियों ने कथित तौर पर एक फ्लैट से 23 वर्षीय एक पहलवान सागर और उसके दोस्तों का अपहरण किया था और छत्रसाल स्टेडियम में उनकी बेरहमी से पिटाई की थी. इसमें बुरी तरह घायल सागर का इलाज के दौरान मौत हुई थी.

घटना के बाद पुलिस को स्टेडियम के एक सीसीटीवी फुटेज में सुशील 20-25 पहलवानों और असौदा गिरोह के बदमाशों के साथ सागर और दो अन्य को पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं.

वीडियो में सभी लोग सागर को लात-घूंसों, डंडों, बैट व हॉकी से मारते दिखाई दे रहे है. फुटेज में सुशील सागर और दो अन्य पीड़ितों पर हॉकी चलाते भी दिखे. सभी पहलवान और बदमाश स्टेडियम के सीसीटीवी कैमरे में कैद हैं.

गौरतलब है कि देश के लिए लगातार दो ओलंपिक पदक जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी सुशील ने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल और 2012 के लंदन ओलंपिक में सिलवर मेडल अपने नाम किया था. वो 2010 में विश्व चैंपियन भी रहे हैं. राष्ट्रमंडल खेल 2010, 2014 और 2018 में उन्होंने लगातार तीन गोल्ड मेडल जीते हैं.

 


Share This News