July 29, 2021

इस वजह के चलते हटाये गए विदेशी कुश्ती कोच टेमो कजाराशविली

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

Share This News

नई दिल्ली : भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने ऐलान किया है कि उसने जार्जिया के कुश्ती कोच टेमो कजाराशविली को प्रदर्शन नहीं दिखाने के लिये कार्यमुक्त किया है क्योंकि कोई भी ग्रीको रोमन पहलवान टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई नहीं कर सका.

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

सोनीपत में राष्ट्रीय शिविर में देश के ग्रीको रोमन पहलवानों को ट्रेनिंग देने के लिये फरवरी 2019 में टेमो को ओलंपिक तक नियुक्त हुए थे. चार पुरूष फ्री स्टाइल पहलवानों और इतनी ही महिला पहलवानों ने ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर लिया है लेकिन देश को ग्रीको रोमन वर्ग में एक भी कोटा नहीं मिला.

भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने एक बयान में बोला कि, किसी भी भारतीय ग्रीको रोमन पहलवान ने ओलंपिक खेलों के लिये क्वालीफाई नहीं किया है जिससे साई ने विदेशी कोच टेमो कजाराशविली को उनके अनुबंध से कार्य मुक्त किया है. इसके मुताबिक, ये फैसला भारतीय कुश्ती महासंघ की सिफारिशों के बाद हुआ है.

25 जून तक बढ़ी सुशील की न्यायिक हिरासत, कोर्ट का फैसला

उनका साई से अनुबंध फरवरी 2019 से लेकर ओलंपिक तक था. भारतीय कुश्ती महासंघ के सहायक सचिव विनोद तोमर ने फैसले का बचाव किया. उन्होंने बोला कि, हमने उन्हें विशेषकर ओलंपिक के लिये ही नियुक्त किया था लेकिन कोई नतीजे नहीं मिले.

उनका अनुबंध इस वर्ष अगस्त तक था लेकिन तब तक कोई राष्ट्रीय शिविर ही नहीं है तो वह अब क्या करते जब ध्यान टोक्यो ओलंपिक पर लगा हुआ है इसलिये हमने साई को बोला कि उनकी सेवाओं की जरूरत नहीं है।’

तोमर के अनुसार, वे ओलंपिक के बाद नये विदेशी कोचों को नियुक्त करेंगे. महासंघ ने ईरान के हुसैन करीमी (फ्री स्टाइल) और अमेरिका के एंड्रयू कुक (महिलाओं के) को ये बोलते हुए उनके कार्यकाल के बीच में ही बर्खास्त किया कि उनके नखरे उठाना कठिन हो गया था.


Share This News