July 24, 2021

इस कंपनी ने बना ली 12 से 18 साल के बच्चो के लिए कोरोना वैक्सीन

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का के खतरे का एक्सपर्ट ने अनुमान जताया है जो बच्चों के लिए खतरनाक कही जा रही है. वही भारत बायोटेक को कोवैक्सीन के बच्चों के ट्रायल की मंजूरी मिली है. इस बीच खबर आ रही है कि अहमदाबाद के जायडस कैडिला ग्रुप बच्चो के लिए वैक्सीन जायकोव डी बनाने में सफलता मिली है.

जायडस कैडिला ग्रुप को बच्चो के लिए वैक्सीन जायकोव डी बनाने में सफलता

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

कम्पनी की इस वैक्सीन के पांच से 12 साल के बच्चो पर ट्रायल की योजना है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जायडस कैडिला ने वैक्सीन का बालिगों पर आठ सौ क्लीनिकल टेस्ट के साथ  वैक्सीन का टेस्ट 12 से 18 साल के बच्चो पर भी  किया है. एक अंग्रेज़ी अखबार को इंटरव्यू में कम्पनी के एमडी शरविल पटेल ने उम्मीद जताई कि  सब कुछ सही रहा तो  वैक्सीन को 12 से 18 साल के बच्चो के लिए अनुमति मिलेगी.

वैक्सीन के पांच से 12 साल के बच्चो पर भी ट्रायल की योजना

कम्पनी की कोशिश है कि बच्चो में वैक्सीन से कोई साइड इफेक्ट नहीं मिले. इस बारे में कम्पनी ने वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति माँगी है.   पटेल के अनुसार वैक्सीनेशन चरणबद्ध तरीके हो रहा है.

इन पड़ोसी देशों से आये धार्मिक अल्पसंख्यक अब बन सकेंगे भारत के नागरिक

पहले 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए. फिर 18 साल से 45 साल के लोगों के लिए वैक्सीन आई. हमारी वैक्सीन 12 साल से 18 साल के बच्चो के लिए है और फिर पांच साल से अधिक उम्र के बच्चो के लिए वैक्सीन मिलेगी.


Share This News