July 25, 2021

कोरोना की तीसरी लहर के बारे में ये है आईआईटी के विशेषज्ञों की राय

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

नयी दिल्ली: भारत में इस समय कोरोना की दूसरी लहर का संक्रमण चल रहा है जो काफी घातक रहा था लेकिन अब ये उतार पर है. इस बीच एक्सपर्ट तीसरी लहर के बारे में भविष्यवाणी कर रहे है. हालांकि भारतीय प्रौद्यौगिकी संस्थान (आईआईटी) के  विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर छोटी हो सकती है.

इस बारे में आईआईटी के प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल ने ट्वीट किया कि ब्रिटेन में कोरोना की नई लहर को लेकर चिंता है लेकिन संक्रमण के रुझान से पता चलता है कि यह कोई बड़ा आकार नहीं लेगी और मॉडल के अनुसार इसके अधिक बढ़ने का रुझान नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि  आरंभिक संकेतों के अनुसार भारत में भी तीसरी लहर अधिक बड़ी नहीं होगी और ये  पहली और दूसरी लहर की तुलना में काफी कमजोर हो सकती है. फिलहाल  विशेषज्ञ तीसरी लहर की मॉडलिंग कर रहे हैं और अगले हफ्ते इस पर विस्तृत रिपोर्ट जारी होगी. फिलहाल आईआईटी के  सूत्र मॉडल के  रिजल्ट का विश्लेषण और उसे अंतिम रूप देना बाकी है.

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

अब  विस्तृत रिपोर्ट में इस लहर के आने का समय, प्रभाव के बारे में विश्लेषण हो रहा है और अगले हफ्ते इस पर विस्तृत रिपोर्ट जारी होगी.   प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल के अनुसार ब्रिटेन तीन लहर का सामना कर चूका है और चौथी लहर न होने का कारण वैक्सीनेशन हो सकता है. भारत में भी तेज वैक्सीनेशन के चलते आंकड़ो पर इसका स्पष्ट असर मिलेगा.

एम्स की स्टडी : डेल्टा वैरिएंट से वैक्सीन की डोज लेने के बाद भी हो सकते है संक्रमित

वैसे देश में कोरोना संक्रमण तेजी से कम हो रहे है और पहले के स्तर पर आने में कम से कम एक महीना  लग सकता है.  बताते चले कि देश में  कोरोना वायरस के नए केस  लगातार दूसरे दिन एक लाख से कम मिले है.

इसमें बुधवार को 92596 नए केस मिले हैं लेकिन एक दिन पहले की तुलना में थोड़े केस बढ़े हैं. दूसरी ओर संक्रमण से होने वाली मौत में अभी भी तेजी हुई है. पिछले चौबीस घंटों में 2219 मौतें हुई और लगभग सभी राज्यों में मौतें दर्ज हुई है.


Share This News