July 23, 2021

यूपी में आने के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के साथ ये भी होगा जरुरी 

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

लखनऊ: कोरोना की तीसरी लहर के बढ़ते खतरे को देखते हुए यूपी सरकार अभी से रणनीति बना रही है.  इसी बीच एक नए फैसले के चलते दूसरे राज्यों से आने वालो के लिए कोरोना  निगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी. यानि बिना निगेटिव रिपोर्ट या बिना वैक्सीनेशन के एंट्री नही हो पायेगी.

इसी साथ ही अगर रिपोर्ट न हो तो  दोनों डोज वैक्सीन लगवाने का प्रमाण पत्र साथ लाना अनिवार्य होगा.  इस बीच सीएम योगी आदित्यनाथ ने टीम-9 की बैठक में  निर्देश दिया कि कि जिन राज्यों में पॉजिटिविटी दर 3 फीसदी से अधिक है वहां के लोग  यूपी आते हैं तो उन्हें कोविड की निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा. इस बार में जल्द विस्तृत दिशा-निर्देश जारी होंगे.

बिना निगेटिव रिपोर्ट या बिना वैक्सीनेशन के एंट्री नहीं

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

हालांकि सरकार ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज वालो को छूट के साथ ये भी बोला कि उन्होंने यह भी कहा कि ट्रेन, हवाई जहाज व बस आदि से यूपी आने वाले कोविड पॉजिटिव मिल रहे हैं. ऐसे में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और जांच जरूर हो और विशेषज्ञों के अनुमान पर जरुर ध्यान दे.

सीएम योगी ने आगे बोला कि कोविड प्रभावित राज्यों से यूपी में आने वालो का समय रहते कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करना होगा. इस दौरान एंटीजन टेस्ट और थर्मल स्कैनिंग पर भी फोकस होगा. इस दौरान सीएम ने बोला कि राज्य में  कोविड वैक्सीनेशन तेज गति से हो रहा है और यूपी अब चार करोड़ कोविड वैक्सीन लगवाने वाला देश का पहला राज्य है.

यूपी में लगे चार करोड़ टीके, ऐसा करने वाला पहला राज्य

उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि  वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया को प्रोत्साहित मिले. उन्होंने आगे कहा कि कोरोना महामारी के बीच राज्य  सरकार ने लोगों के जीवन और जीविका को सुरक्षित रखने के साथ विकास परियोजनाओं को भी जारी रखा. इसके साथ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का कार्य पूरा होने वाला है. वही गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए 89 फीसदी से अधिक भूमि खरीदी जा चुकी है.

ये भी पढ़े : कोरोना की तीसरी लहर के खिलाफ आने वाले 100 दिन महत्वपूर्ण 

उन्होंने बोला कि राज्य में कोरोना महामारी पर तेजी से नियंत्रण  हो रहा है और अलीगढ़, चित्रकूट, हाथरस, कासगंज, महोबा, श्रावस्ती जिले और  पूरी तरह कोरोना मुक्त हो चुके हैं.वही 34 जिलो में  कोरोना संक्रमित मरीज इकाई अंक और 33 जिलों में दहाई अंक में एक्टिव केस हैं. इस बीच राज्य में 40 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला और लखनऊ में नए संक्रमित मिले.

इन हालत में सुधार के लिए  ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट के मंत्र के अनुरूप सभी जरूरी प्रबंध हो. मुख्यमंत्री को बताया गया कि मेडिकल कॉलेजों में पीडियाट्रिक आईसीयू निर्माण हो रहा है और केंद्र सरकार से ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए दवा भी मिल रही है. राज्य में 541 स्वीकृत ऑक्सीजन प्लांटों में 166 स्थापना के बाद अब चालू  हैं.


Share This News