July 24, 2021

आज के दर्शक उन फिल्मों को नकार देते हैं, जिनमें वास्तविकता नहीं : प्रियदर्शन

फाइल फोटो सोशल मीडिया

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

दिग्गज डायरेक्टर प्रियदर्शन का बोलना है कि धीरे-धीरे सुपरस्टारों का महत्व कम होगा और उसका स्थान कहानी को पर्दे पर दिखाने की कला ले लेगी. फिल्मोद्योग के शानदार निर्देशकों में से एक प्रियदर्शन ने बॉलीवुड के नामचीन स्टार्स के साथ काम किया है जिनमें सलमान खान, शाहरुख खान और अक्षय कुमार भी हैं.

फाइल फोटो सोशल मीडिया
फाइल फोटो सोशल मीडिया

उन्हें “हेरा फेरी”, “गरम मसाला” और “भूल भुलैया” जैसी फिल्मों के लिए फेमस है. प्रियदर्शन ने 40 वर्ष के अपने करियर में ड्रामा से लेकर कॉमेडी तक कई भाषाओं में फिल्में बनाई हैं. उन्होंने बोला कि आज के दर्शक उन फिल्मों को नकार देते हैं जिनमें वास्तविकता नहीं होती. उन्होंने बोला कि, फिल्मोद्योग बदल गया है.

मुझे लगता है कि ये सुपरस्टारों का अंतिम युग है. आज हम जिन्हें देख रहे हैं… शाहरुख खान से लेकर सलमान और अक्षय तक… उन्हें भगवान का धन्यवाद देना चाहिए. कल का सुपरस्टार फिल्म की विषयवस्तु होगी.

ये भी पढ़े : 2022 के बाद टीवी होस्टिंग में नहीं नजर आएंगे आदित्य नारायण

प्रियदर्शन के अनुसार, मैं देख रहा हूं कि कैसे फिल्में और ज्यादा वास्तविक होती जा रही हैं. आप विश्वास करने लायक स्थिति के बगैर किसी कहानी को बढ़ा-चढ़ा कर नहीं दिखा सकते. हास्य प्रधान या गंभीर फिल्म में भी उन्हीं चीजों को दिखाया जा सकता है जो विश्वास करने लायक हों. मुझे नहीं लगता कि कोई फिल्म असफल होगी यदि उसमें विश्वास करने लायक सामग्री हो.

प्रियदर्शन ने डायरेक्टर के रूप में अपने करियर का आगाज 1980 के दशक में “पुचाक्कुरु मुक्कुति” और “बोईंग बोईंग” जैसी मलयाली फिल्मों से की थी. इन दोनों फिल्मों में सुपरस्टार मोहनलाल ने एक्टिंग की थी. बाद में प्रियदर्शन ने तेलुगु और तमिल फिल्मों का भी डायरेक्शन किया.

हिंदी फिल्म उद्योग में उन्होंने 90 के दशक में “मुस्कुराहट”, “गर्दिश” और “विरासत” जैसी फिल्में दी. साल 2000 में आई “हेरा फेरी” से प्रियदर्शन को भारत भर में सफलता मिली. अक्षय कुमार, परेश रावल और सुनील शेट्टी अभिनीत ये फिल्म ब्लॉकबस्टर रही थी.


Share This News