July 24, 2021

एसबीआई लाइफ की डिजिटल फिल्‍म में दिखेगा प्रियजनों की रक्षा का अनकहा संकल्‍प 

फाइल फोटो

फाइल फोटो सोशल मीडिया

Share This News

महामारी ने घर पर एक पिता की जिम्मेदारियों के साथ-साथ जिस तरह से वे अपने परिवार की रक्षा के वादे को पूरा करते हुए एक नई जीवन शैली को अपना रहे हैं के बारे में हमारे दृष्टिकोण को फिर से नया आकार दिया है.

परिवार के साथ-साथ समाज के प्रति पिता द्वारा निभाई गई बड़ी भूमिका को स्वीकार करते हुए, इस फादर्स डे, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस, जो देश के सबसे भरोसेमंद निजी जीवन बीमा कंपनियों में से एक है, ने एक मार्मिक डिजिटल फिल्म रिलीज की है. यह महामारी के बीच उभरती जिम्मेदारियों के प्रति एक पिता के भावनात्मक और सुरक्षात्मक पक्ष को दर्शाता है.

फाइल फोटो
फाइल फोटो सोशल मीडिया

वाटकंसल्ट द्वारा परिकल्पित, डिजिटल फिल्म अंत में एक भावनात्मक मोड़ के साथ एक पिता और एक छोटे बच्‍चे के बीच के बंधन को दिखाती है. पिता से बात करते हुए, छोटा बच्‍चा महामारी-जनित लॉकडाउन के कारण उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अपनी परेशानी को छिपाने की कोशिश कर रहा है. लेकिन पिता स्‍वाभाविक रूप से सहज ही उस छोटे बच्‍चे की परेशानी को समझ जाता है.

ये भी पढ़े : यूपीएल लिमिटेड को परफॉर्मेंस मैनेजमेंट के लिए एशियन सस्टेनेबिलिटी लीडरशिप अवार्ड 

उनकी बातचीत में प्रदर्शित गर्मजोशी से यह विश्वास करना आसान हो जाता है कि यह एक पिता-पुत्र का रिश्ता है.  हालांकि, फिल्म के अंत में यह पता चलता है कि वह आदमी उसका जन्‍मदाता पिता नहीं है. दरअसल, वह छोटा बच्‍चा उसकी घरेलू सहायिका का बच्चा है, जो सालों से अपने परिवार की देखभाल कर रहा है.


Share This News