July 24, 2021

भाला फेंक में भारत से चमक बिखेर सकती है यूपी की अन्नू रानी

Share This News

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय 119 खिलाड़ी खेलने वाले है. इस बार उत्तर प्रदेश के दस खिलाड़ी ओलंपिक में अपनी दावेदारी पेश करेंगे. इसमें यूपी की बेटी अन्नू रानी भाला फेंक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी. उन्होंने ओलंपिक का टिकट रैंकिंग के आधार पर मिला है. मेरठ की रहने वाली अन्नू रानी के बारे में एथलेटिक्स कोच जेएस भाटिया कहते हैं कि ओलंपिक में भारत को नए चैंपियन मिल सकता है.

उन्होंने अन्नू रानी को लेकर प्रतिभावान बताया और बोला कि वो देश के लिए पदक जीत सकती है. उन्होंने कहा कि कई खिलाड़ी ऐसे है जो संघर्ष के बाद यहां तक आये है और अन्नू रानी भी आर्थिक हालात से जूझते हुए यहां तक पहुंची है.

जेएस भाटिया ने कहा कि उम्मीद है कि अन्नू रानी ओलंपिक में कमाल कर सकती है. मेरठ की अन्नू रानी की कठिनाइयों को देखते तो एक समय उनके पास प्रैक्टिस के लिए जूते तक नहीं थे और चंदे की रकम से जूता खरीदती थी. लोग उनको गाय भी दान देते थे, ताकी वो अच्छी सेहत हासिल कर सके.

ये भी पढ़े : टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा ले रहे खिलाड़ियों का यूपी के खेल दिग्गजों ने बढ़ाया उत्साह

ये भी पढ़े : टोक्यो के लिए रवाना हुआ भारतीय एथलीटों का पहला दल

ये भी पढ़े :  यूपी के प्लेयर्स के उत्सावर्धन के लिए आयोजित की जाएगी टोक्यो ओलंपिक जागरूकता रिले

अन्नू को शुरुआती दौर में प्रैक्टिस के लिए बड़ी सुविधा नहीं मिल सकी. इसकी वजह से वो गन्ने को भाला बनाकर प्रैक्टिस करती थी. उन्होंने अब तक 12 साल के करियर में कई कमाल दिखाए है. अन्नू मेरठ के बहादुरपुर गांव की रहने वाली है जो गांव में प्रैक्टिस कर आज ओलंपिक तक पहुंची है.

अन्नू रानी पर एक नजर

लखनऊ में 2014 के राष्ट्रीय अंतर-राज्यीय चैंपियनशिप में अनु रानी ने 58.83 मीटर भाला फेंक गोल्ड अपने नाम किया था और 14 साल  पुराना राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी तोड़ दिया.

कांस्य पदकः 2014 एशियन गेम्स, दक्षिण कोरिया

कांस्य पदकः 2017 एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप, भुवनेश्वर

रजत पदकः 2019 एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप, दोहा


Share This News