July 28, 2021

स्वाधीन भारत में थारू जनजाति विकास एवं संभावना पर वेबिनार 20 को

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

Share This News

लखनऊ। संस्कृति विभाग उत्तर प्रदेश के अंतर्गत लोक एवं जनजातीय कला एवं संस्कृति संस्थान लखनऊ की ओर से “चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव एवं आजादी का अमृत महोत्सव” की सीरीज में “स्वाधीन भारत में थारू जनजाति विकास एवं संभावनाएं” विषय पर प्रदेश स्तरीय वेबिनार का आयोजन 20 जुलाई 2021 को अपराहन 2:00 बजे किया जाएगा.

यह प्रसारण https://www.facebook.com/folkandtribalartsup पर होगा.

लोक एवं जनजातीय कला एवं संस्कृत संस्थान के निदेशक विनय श्रीवास्तव के अनुसार थारू जनजाति पर इस वेबिनार में पांच विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया है.

प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया
प्रतीकात्मक चित्र सोशल मीडिया

उसमें अयोध्या से जनजातीय लोक शैली की चित्रकार दीपा सिंह रघुवंशी, वरिष्ठ साहित्यकार और जनजातीय संस्कृति की अध्येता डॉ.करुणा पांडे, लखनऊ स्थित रामस्वरूप मेमोरियल यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ.राम प्रताप यादव और उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान की सेवानिवृत्त लोक विदुषी डॉ.विद्या विन्दु सिंह है.

ये भी पढ़े : पारम्परिक कजरी, झूला गीतों से सजी आनलाइन महफिल

यह आयोजन उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव मुकेश कुमार मेश्राम, उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग के निदेशक शिशिर और उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग के विशेष सचिव आनंद कुमार के मार्गदर्शन में हो रहा है.


Share This News