July 24, 2021

अपने खिलाफ दो साल के प्रतिबंध को चुनौती देंगे पहलवान सुमित मलिक

Share This News

यूडब्ल्यूडब्ल्यू ने शुक्रवार को भारतीय पहलवान सुमित मलिक को डोप टेस्ट में विफल होने पर दो साल का बैन लगाया था. इस बैन के खिलाफ सुमित ने चुनौती देने का फैसला किया है. अब वो सजा में कटौती की मांग करेंगे ताकि अगले साल राष्ट्रमंडल खेलों में भाग ले सकें.

राष्ट्रमंडल खेल 2018 के गोल्ड मेडलिस्ट सुमित के दूसरे नमूने में भी बैन पदार्थ के अंश पाए गए थे. सुमित के करीबी सूत्रों ने कहा कि उन्होंने एक खास सप्लीमेंट अमेरिका में जांच के लिये भेजा है.

साथ ही वो दवा भी भेजी है जो सुमित ने ली थी ताकि ये पता किया जा सके कि क्या वो पदार्थ इनके जरिये उसके शरीर में आया है. सूत्र ने कहा कि, हम बचाव तैयार कर रहे हैं और दो साल के बैन को चुनौती देने के लिये तैयार हैं.

टोक्यो ओलंपिक में 125 किलोवर्ग में क्वालीफाई कर चुके सुमित ने स्वीकार कर लिया है कि वो शरीर में प्रतिबंधित पदार्थ निकलने के लिए जिम्मेदार हैं, लेकिन उनका उद्देश्य बेईमानी नहीं था. वो अपील करेंगे कि उनकी सजा घटाकर छह महीने की जाये.

ये भी पढ़े : सुमित मलिक की टोक्यो ओलंपिक खेलने की उम्मीद खत्म

बोला जा रहा है कि सुमित एक सप्लीमेंट और कोरोना की दवा ले रहा था. शायद उनके मार्फत वो पदार्थ उसके शरीर में आया हो. हम सजा में कटौती की मांग करेंगे. उन्होंने कहा कि, हमने वाडा से और सूचना मांगी है.

सुमित के ए नमूने में पदार्थ की मात्रा नाममात्र की थी. हमने बी नमूने का ब्यौरा भी मांगा की है. ये साफ है कि वो बेकसूर है. सुमित का बैन तीन जून से शुरू हुआ है और इसके छह महीने होने पर ही वो बर्मिंघम में अगले साल 28 जुलाई से होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में भाग ले सकेंगे.


Share This News